ताज़ा खबर
 

वरुण के जन्‍म के समय डिलीवरी रूम में घुस गए थे संजय गांधी, जानिए आखिरी पलों की कहानी

मेनका गांधी कहती हैं, " एम्स के डॉक्टरों ने बाद में मुझे बताया कि जब उन्हें बच्चा (वरुण गांधी) हुआ, तब संजय गांधी पहले शख्स थे, जो डिलिवरी रूम में बच्चे को देखने आए।"

संजय गांधी के देहात के बाद अंखड पाठ किया गया। (फोटो सोर्स: एक्सप्रेस आर्काइव)

भारत की पूर्व प्रधानमंत्री और कांग्रेस की दिवंगत नेता इंदिरा गांधी के बेटे संजय गांधी की पहचान अक्सर आपातकाल के दौर में उपजी परिस्थितियों के लिए याद किया जाता है। संजय गांधी की आकस्मिक मृत्यु के बाद भी देश की जनता हमेशा उनसे जुड़ी बातों को जानना चाहती है। राशिद किदवई अपनी किताब ’24 अकबर रोड’ में संजय गांधी की एक पारिवारिक छवि को पेश करते हैं। उनके किताब में संजय की पत्नी मेनका गांधी (सुल्तानपुर से बीजेपी सांसद) का जिक्र है। जिसमें मेनका बताती हैं कि संजय गांधी एक राजनेता होने के साथ-साथ काफी केयरिंग हज़बैंड भी थे। जब भी वह खुद को स्वस्थ महसूस नहीं करती थीं, तो वह संसद की कार्यवाही छोड़ उनके साथ रहते थे।

जब वरुण गांधी पैदा होने वाले थे, तब भी वह पत्नी मेनका के साथ दिल्ली स्थित ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (AIIMS) में थे। मेनका कहती हैं, ” एम्स के डॉक्टरों ने बाद में मुझे बताया कि जब उन्हें बच्चा (वरुण गांधी) हुआ, तब संजय गांधी पहले शख्स थे, जो डिलिवरी रूम में बच्चे को देखने आए।”

भारत का राजनीतिक इतिहास संजय गांधी को कई मायनों में याद रखेगा। कांग्रेस पार्टी और तत्कालीन इंदिरा सरकार में उनकी हैसियत को लेकर हमेशा से एक विमर्श रहा है। लेकिन, कड़े फैसलों के लिए मशहूर संजय गांधी का इंतकाल वक्त से काफी पहले ही एक विमान दुर्घटना में हो गया। 23 जून, 1980 को संजय गांधी टू सीटर विमान के टेस्ट उड़ान भरने के लिए दिल्ली फ्लाइंग क्लब के लिए निकले। लेकिन, विमान उड़ाने के दौरान ही उनका कंट्रोल खत्म हो गया और विमान तीन मूर्ति के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इस दौरान उनके साथ उनके को-पायलट की भी मौके पर मौत हो गई। उस दौरान संजय की उम्र सिर्फ 34 साल थी। उन्होंने अपने पीछे मेनका और एकलौते बेटे वरुण को छोड़ दिया।

सजंय के विमान दुर्घटना की जानकारी मिलते ही उनकी मां इंदिरा गांधी मौके के लिए भांगी। जब वह पहुंची तो उन्हें संजय गांधी के क्षत-विक्षत शव मिला। इस दौरान इंदिरा गांधी की टूट चुकी थीं। उन्हें ढांढस बंधाने के लिए सिर्फ उनके बड़े बेटे राजीव गांधी थे। संजय गांधी के दाह-संस्कार के दौरान भी राजीव उन्हें अपने बाहों में भरे रखे। उस दौरान गांधी परिवार में हालात ऐसे थे कि जब भी राजीव के दोस्त उन्हें राजनीति से दूरी बनाने को कहते तो वह बोलेत कि उनके माता को उनकी बेहद जरूरत है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 13 हजार करोड़ के PNB स्कैम में मेहुल चोकसी को झटका, नागरिकता रद्द कर भारत को सौंपने पर एंटीगुआ सरकार तैयार
2 Kerala Lottery Sthree Sakthi SS-163 Today Results 25.6.19: 60 लाख रुपये का पहला इनाम, जानिए विजेता का टिकट नंबर
3 पद्मश्री लौटाना चाहते हैं ओडिशा के Mountain Man, बोले- सम्मान पाने के बाद नहीं मिल रही जॉब, चींटी के अंडे खाकर हो रहा गुजारा
ये पढ़ा क्या?
X
Testing git commit