ताज़ा खबर
 

इन कुत्तों पर है पीएम नरेंद्र मोदी की सुरक्षा का दारोमदार, इजरायल से खरीदकर एसपीजी में किए गए हैं शामिल

पीएम मोदी के अलावा सोनिया गांधी, राहुल गांधी समेत कुल 70 लोग एसपीजी की सुरक्षा के घेरे में चलते हैं। इनमें कई केंद्रीय मंत्री और पूर्व प्रधानमंत्री भी शामिल हैं।

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार वीआईपी लोगों को स्पेशल सिक्योरिटी देने में यूपीए सरकार से आगे निकल गई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सुरक्षा घेरे को और मजबूत किया गया है। इसके लिए स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) ने इजरायल से विशेष तौर पर प्रशिक्षित कुत्ते मंगवाए हैं। ‘द टेलीग्राफ’ के मुताबिक भारत ने इजरायल से जर्मन शेपर्ड, लैब्राडोर, बेल्जियन मालिनोइन किस्म के 30 हमलावर कुत्ते खरीदे हैं जो पीएम की सुरक्षा में शामिल होंगे। एक सीनियर सिक्योरिटी अफसर के मुताबिक एक साल के अंदर भारत ने जरुशेलम से इस तरह के हमलावर तीस कुत्तों का आयात किया है। इनमेंबारूद और बम को सूंघकर पता लगाने की अद्भुत क्षमता है।

सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि एसपीजी के इन नए चार पैर वाले रंगरूटों (कुत्तों) को विस्फोटक और छिपा कर रखे गए बमों को सूंघने में दुनिया में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। उन्होंने कहा कि इन कुत्तों – लैब्राडोर्स, जर्मन शेपर्ड, बेल्जियन मालिनोइन और एक चौथे दुर्लभ नस्ल के कुत्ते पूर्व के युद्धों में भी बहुत प्रभावशाली रहे हैं। एक अन्य अधिकारी ने टेलीग्राफ को बताया कि इस तरह के कुत्ते इजरायल के सुरक्षा बल का अहम हिस्सा रहे हैं। इन्हें दस साल की उम्र में सुरक्षा दस्ते से रिटायर कर दिया जाता है। उन्होंने बताया कि सुरक्षा खतरों की वजह से भारत में पीएम के सुरक्षा तंत्र को मजबूत रखना एसपीजी की बड़ी चुनौती है।

एक अन्य अधिकारी के मुताबिक इन कुत्तों के एसपीजी में शामिल होने से एसपीजी की ताकत बढ़ी है। बता दें कि पीएम मोदी के अलावा सोनिया गांधी, राहुल गांधी समेत कुल 70 लोग एसपीजी की सुरक्षा के घेरे में चलते हैं। इनमें कई केंद्रीय मंत्री और पूर्व प्रधानमंत्री भी शामिल हैं। सुरक्षा अधिकारियों ने इन कुत्तों की खरीद लागत यह कहकर बताने से इनकार कर दिया कि यह पीएम की सुरक्षा से जुड़ा मामला है।

गौरतलब है कि पिछले महीने पीएम नरेंद्र मोदी ने इजरायल का दौरा किया था। वो देश के पहले प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने इजरायल का दौरा किया है। इस दौरान दोनों देशों के बीच सैन्य सुरक्षा, साइबर सुरक्षा, ड्रोन मिसाइल टेक्नोलॉजी समेत कई मुद्दों पर समझौते हुए। भारत में
आमतौर पर इंडो-तिब्बत सीमा पुलिस ही एसपीजी के स्निफर डॉग को प्रशिक्षित करती है। चंडीगढ़ के भानू में स्थित पारामिलिट्री बॉर्डर फोर्सेज डॉग ट्रेनिंग सेन्टर को इसके लिए सबसे उपयुक्त माना जाता है। वहां सामान्यत: 24 हफ्ते की ट्रेनिंग कुत्तों को दी जाती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 हरियाणा BJP अध्यक्ष के पुत्र की करतूत पर बोले सीएम खट्टर- बराला को नहीं दी जा सकती बेटे के अपराध की सजा
2 इस स्कीम से रेलवे की हुई ‘चांदी’, एक साल से भी कम में अतिरिक्त 540 करोड़ रुपए कमाए
3 मुस्लिम लड़कियों को पीएम मोदी का तोहफा, ‘शादी-शगुन’ के लिए रु. 51,000 देगी सरकार
ये पढ़ा क्या?
X