ताज़ा खबर
 

Election Results 2019: आडवाणी ने 2009 में की थी मांग- चुनाव आयोग ईवीएम को फूल प्रूफ करे या बैलट बॉक्स से वोटिंग कराए

Lok Sabha Election/Chunav Results 2019: यह पहली बार नहीं है कि लोकसभा चुनाव 2019 में विपक्ष की तरफ से ईवीएम पर सवाल उठाया जा रहा है। भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने साल 2009 में महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के समय ईवीएम को फूल प्रूफ करने या फिर बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग की थी।

election result, election results, election results 2019, election results online, chunav result, chunav result 2019, lok sabha election, lok sabha election results, election result, abp news, aaj tak news, aaj tak live hindi news, abp live news, lok sabha election result 2019, election live counting, election result live counting, live news, election commission, election commission result, eci results, eci results 2019, eci results live, congress, BJP, Hindi news, news in Hindi, latest news, today news in Hindi, LK Advani, ballot paper, evm 5 नवंबर 2009 को संडे एक्स्प्रेस मे प्रकाशित हुई थी खबर। (फोटोः एक्सप्रेस आर्काइव्स)

यह पहली बार नहीं है कि जब विपक्ष लोकसभा चुनाव में ईवीएम से छेड़छाड़ और गड़बड़ी की शिकायत की आशंका व्यक्त कर रहा है। बसपा समेत कई दल बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग कर चुके हैं। इससे पहले साल 2009 में भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने ईवीएम के फुलप्रूफ नहीं होने की स्थिति में बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग की थी।

Election Results 2019 LIVE Updates: यहां देखें नतीजे

आडवाणी ने यह मांग महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव शुरू होने से पहले कही थी। उसी साल तीन अन्य राज्यों के भी विधानसभा चुनाव होने थे। आडवाणी ने 2009 में संडे एक्सप्रेस से बातचीत में कहा था, ‘यदि निर्वाचन आयोग इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) का फूलप्रूफ होना सुनिश्चित होना और इसमें छेड़छाड़ की हर आशंका को खत्म होना सुनिश्चित नहीं करता तो हमें फिर से बैलेट पेपर की तरफ ही लौटना होगा।’

आडवाणी ने जर्मनी(जिसने वोटिंग मशीन पर प्रतिबंध लगा दिया है) और अमेरिका (जहां ईवीएम से वोटिंग के लिए व्यापक दिशानिर्देश हैं) का हवाला देते हुए कहा था, ‘कोई भी चुनाव में हेराफेरी या कदाचार की बात नहीं कर रहा है, लेकिन बड़ा सवाल यह है कि ईवीएम से छेड़छाड़ की आशंका को आवश्यक रूप से दूर करना होगा।’

उस समय ईवीएम की विश्वसनीयता के खिलाफ आवाज उठाने वाली भाजपा मुख्यधारा की पहली राष्ट्रीय पार्टी थी। दरअसल चुनाव आयोग ने उस समय आम चुनाव में (तमिलनाडु जैसे राज्यों में निर्दलीय उम्मीदवारों की संख्या अधिक होने के कारण ) ईवीएम की जगह बैलेट पेपर से चुनाव कराने का विचार दिया था।

हालांकि, तत्कालीन निर्वाचन आयुक्त एसवाई कुरैशी ने कहा था कि चुनाव आयोग पूरी तरह से संतुष्ट है कि ईवीएम के साथ छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है। इस बात को सुनिश्चित करने के लिए संसदीय उपसमिति की तरफ से आईआईटी मद्रास के निदेशक पीवी इंदिरेशन की अध्यक्षता में तकनीकी समिति गठित की गई थी। उस समय आम चुनाव के बाद भाजपा के कुछ राज्य इकाई के प्रभारियों ने ईवीएम के साथ छेड़छाड़ की आशंका व्यक्त की थी।

Read here the latest Lok Sabha Election 2019 News, Live coverage and full election schedule for India General Election 2019

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories