ताज़ा खबर
 

‘कार्रवाई आपने नहीं की, हमें जिम्मेदार क्यों ठहरा रहे हैं’, चुनाव आयोग ने आलोचनात्मक लेख पर पूर्व चुनाव आयुक्त को भेजा पत्र

पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी ने 8 फरवरी को इंडियन एक्सप्रेस में एक आलेख में लिखा था कि दिल्ली चुनाव में प्रचार के दौरान भड़काउ भाषण देने वालों के खिलाफ चुनाव आयोग को एफआईआर दर्ज करने के आदेश देने चाहिए थे।

Author Edited By Anil Kumar नई दिल्ली | Updated: February 15, 2020 8:03 AM
‘कार्रवाई आपने नहीं की, हमें जिम्मेदार क्यों ठहरा रहे हैं’ चुनाव आयोग ने पूर्व CEC को लिखा पत्र

चुनाव आयोग ने पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त (सीईसी) एस वाई कुरैशी के इस आरोप से इंकार किया है कि आयोग ने दिल्ली विधानसभा चुनाव के प्रचार के दौरान नफरत भरे भाषणों के मामले में उचित तरीके से सजा नहीं दी। आयोग ने कहा कि जब कुरैशी आयोग की अगुवाई कर रहे थे तो जनप्रतिनिधित्व कानून और आईपीसी के तहत नेताओं के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गयी।

चुनाव आयोग ने पूर्व चुनाव आयुक्त को इंडियन एक्सप्रेस में लिखे गए उनके आलोचनात्मक लेख के लिए पत्र भेजा है। सीनियर डिप्टी इलेक्शन कमिश्नर डॉ. संदीप सक्सेना की ने पत्र में लिखा, चुनाव आयोग 11 फरवरी 2020 से पहले कराए गए आम चुनाव और विधानसभा के दौरान आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ की कार्रवाई पर एक रिपोर्ट प्रकाशित करने की योजना बना रहा है।

आयोग ने लिखा कि जब आप मुख्य चुनाव आयुक्त के कार्यालय का कामकाज देख रहे थे, उस दौरान आयोग द्वारा आदर्श आचार संहिता के तहत जारी नोटिसों और कार्रवाई की सूची संलग्न है। उन्होंने कहा, ‘‘आप कृपा करके इसे पढ़ सकते हैं। संलग्न सूची से देखा जा सकता है कि तत्कालीन आयोग ने इस अवधि में जनप्रतिनिधित्व कानून 1951 की धाराओं 123 और 125 के तहत तथा आईपीसी (भारतीय दण्ड संहिता) की धारा 153 के तहत कोई कार्रवाई नहीं की।’’

जुलाई 2010 से जून 2012 तक सीईसी रहे कुरैशी से इस बारे में प्रतिक्रिया लेने के लिए उन्हें फोन से संपर्क का प्रयास किया गया। हालांकि उनसे बात नहीं हो सकी और उन्होंने मैसेज का भी कोई जवाब नहीं दिया। मालूम हो कि पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी ने 8 फरवरी को इंडियन एक्सप्रेस में एक आलेख में लिखा था कि  दुर्भाग्यपूर्ण है कि चुनाव आयोग ने दिल्ली चुनाव के प्रचार के दौरान नफरत वाले भाषणों पर उचित कार्रवाई नहीं की।

उनका कहना था कि दिल्ली चुनाव में प्रचार के दौरान भड़काउ भाषण देने वालों के खिलाफ चुनाव आयोग को एफआईआर दर्ज करने के आदेश देने चाहिए थे। इसके जवाब में चुनाव आयोग की तरफ से भेजे पत्र में कहा गया है कि कार्रवाई तो आपने भी नहीं, फिर हमें क्यों जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। चुनाव आयोग की तरफ से भेजे गए पत्र के साथ उनके लेख की प्रति भी अटैच की गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 भारतीय न्यायिक सेवा में आरक्षण चाहते हैं दलित सांसद, केंद्रीय मंत्री पासवान बोले- मैं उनकी मांग का समर्थन करता हूं
2 पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के सेंटर फॉर अप्लाइड पॉलिटिक्स से कब्जा हटाया
3 सीधी टक्कर की चुनौती के लिए खुद को करेगी तैयार बीजेपी
ये पढ़ा क्या?
X