ताज़ा खबर
 

बसपा को फिर सालभर नहीं मिला चंदा? पार्टी ने Nil दिखाया डोनेशन, NCP का चंदा एक साल में पांच गुना बढ़ा

फिलहाल भाजपा, कांग्रेस, सीपीआई, सीपीएम और तृणमूल कांग्रेस जैसी राष्ट्रीय पार्टियों के चंदे का डेटा चुनाव आयोग की वेबसाइट पर मौजूद नहीं है।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: January 7, 2021 2:40 PM
Amendmentनिर्वाचन आयोग का कार्यालय।फाइल फोटो।

चुनाव आयोग (ईसी) ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए दो राष्ट्रीय पार्टियों के चंदे का ब्योरा सार्वजनिक कर दिया है। हालांकि, इसके आंकड़े काफी चौंकाने वाले हैं। जहां बहुजन समाज पार्टी ने पिछले पूरे साल में 20 हजार रुपए से ऊपर का कोई चंदा न मिलने की बात कही है, वहीं राकांपा के सालाना चंदे में पांच गुना बढ़ोतरी की बात सामने आई है। यानी महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी गठबंधन की सरकार बनने का फायदा शरद पवार की पार्टी को हुआ है।

राकांपा के प्रमुख दानकर्ताओं में बीजी शिर्के कंस्ट्रक्शन टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड (25 करोड़ रुपए), पंचशील कॉरपोरेट पार्क (7.5 करोड़ रुपए). कोरोनावायरस वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (3 करोड़ रुपए) और फिनोलेक्स इंडस्ट्रीज लिमिटेड (1.2 करोड़ रुपए) शामिल हैं। इसके अलावा सिर्फ एक इलेक्टोरल ट्रस्ट हार्मनी इलेक्टोरल ट्रस्ट ने राकांपा को 1.5 करोड़ रुपए का चंदा दिया।

फिलहाल अन्य राष्ट्रीय पार्टी- भाजपा, कांग्रेस, सीपीआई, सीपीएम और तृणमूल कांग्रेस के चंदे का डेटा चुनाव आयोग की वेबसाइट पर मौजूद नहीं है। हालांकि, जिन क्षेत्रीय पार्टियों का डेटा साइट पर है, उनमें तमिलनाडु में भाजपा की साथी एआईएडीएमके शामिल है। पार्टी को 20 हजार रुपए से ऊपर का 52.1 करोड़ रुपए चंदे में मिला है। बताया गया है कि इसमें 94 फीसदी दान यानी 46.8 करोड़ रुपए टाटा ग्रुप द्वारा नियंत्रित प्रोग्रेसिव इलेक्टोरल ट्रस्ट की तरफ से ही आया है। इसके अलावा राज्य में एआईएडीएमके की प्रतिद्वंदी पार्टी डीएमके को 48.3 करोड़ रुपए चंदा मिला है, जिसमें 45.5 करोड़ रुपए यानी 93 फीसदी उसे इलेक्टोरल बॉन्ड्स के जरिए मिला है।

जानकारी के मुताबिक, टाटा ग्रुप की प्रोग्रेसिव इलेक्टोरल ट्रस्ट ने 2019-20 में ओडिशा के बीजू जनता दल (बीजद) को भी 25.3 करोड़ रुपए का चंदा दिया है, जो कि पार्टी को मिले कुल दान का 89 फीसदी रहा। इससे पहले 2018-19 में इसी ट्रस्ट ने एआईएडीएमके और बीजद को कुल 72 करोड़ रुपए दान में दिए थे।

बिहार में भाजपा की साथी जदयू ने बताया है कि उसे 20 हजार रुपए से ऊपर के चंदे में छह करोड़ रुपए मिले है। इसमें 1.2 करोड़ रुपए (करीब 20 फीसदी) उसे समाज इलेक्टोरल ट्रस्ट से मिला है। इस ट्रस्ट ने रालोद को 1.5 करोड़ रुपए दिए हैं। इसके अलावा प्रुडेंट इलेक्टोरल ट्रस्ट ने शिरोमणि अकाली दल, लोजपा को 1-1 करोड़ रुपए दान में दिए। वहीं ट्रायंफ इलेक्टोरल ट्रस्ट ने आंध्र प्रदेश-तेलंगाना की तेलुगु देशम पार्टी को 1 करोड़ रुपए का दान दिया।

Next Stories
1 कांग्रेस प्रवक्ता बोलीं, बाबा रामदेव चीन से ला रहे चीनी, बेच रहे शहद; ऐंकर ने कहा, आपके ईष्ट होंगे, मेरे नहीं
2 अंतिम संस्मरण में प्रणब मुखर्जी ने गिनाईं सोनिया गांधी की गलतियां, लिखा- बड़े नेताओं ने कराई कांग्रेस की दुर्गति
ये पढ़ा क्या?
X