ताज़ा खबर
 

चुनाव आयोग से जाते-जाते भी बहुमत के खिलाफ फैसला दे गए अशोक लवासा

निवर्तमान आयुक्त अशोक लवासा ने यह कहते हुए एक बहुमत के फैसले के विपरीत आदेश लिखा कि दोनों गुटों में से किसी को भी केसी (एम) के रूप में मान्यता नहीं दी जा सकती है जब तक कि उनसे इस समर्थन में नए हलफनामे देने को नहीं कहा जाता है।

Election Commission, EC, Ashok Lavasa, ADB Vice president,लवासा चुनाव आयुक्त के पद से इस्तीफा देने के बाद एशियन विकास बैंक में उपाध्यक्ष के रूप में जॉइन करेंगे। (फाइल फोटो)

चुनाव आयोग (ईसी) ने सोमवार को केरल कांग्रेस (एम) पार्टी के संस्थापक के आर मणि के बेटे जोस के मणि की अगुवाई वाले गुट को पार्टी के विवादित ‘दो पत्तों’ के चिह्न देने का फैसला बहुमत के साथ किया। हालांकि, निवर्तमान आयुक्त अशोक लवासा ने यह कहते हुए एक इस फैसले के खिलाफ लिखा कि दोनों गुटों में से किसी को भी केसी (एम) के रूप में मान्यता नहीं दी जा सकती है जब तक कि समर्थन के नए हलफनामे देने को नहीं कहा जाता है।

पिछले साल पार्टी संरक्षक केआर मणि की मौत के बाद केसी (एम) दो समूहों में बंट गया। एक गुट का नेतृत्व जोस के मणि कर रहे हैं, जो राज्यसभा सांसद भी हैं। वहीं, दूसरे गुट का नेतृत्व पीजे जोसेफ कर रहे हैं, जो केआर मणि के निधन के समय पार्टी के अध्यक्ष थे। सीईसी सुनील अरोड़ा और उनके सहयोगी सुशील चंद्र का मत था कि जोस के मणि को पार्टी के विधायी और संगठनात्मक समर्थन में बहुमत का समर्थन प्राप्त है।

यह निर्णय 305 राज्य समिति सदस्यों द्वारा दायर हलफनामों के सत्यापन पर आधारित था जो दोनों गुटों द्वारा प्रदान किए गए समर्थकों की सूची में कॉमन थे। इस महीने के शुरुआत इस्तीफा देने वाला लवासा का सोमवार को कार्यालय में आखिरी दिन था। उनकी असहमति के पीछे विचार था कि बहुमत का परीक्षण दोनों गुटों से समर्थन का फैसला नए हलफनामे मांगे जाने के बाद किया जाना चाहिए।

वहीं, सीईसी सुनील अरोड़ा और सुशील चंद्रा इस आधार पर नए हलफनामों मांगे जाने के पक्ष में नहीं थे क्योंकि अगले विधानसभा चुनाव एक साल से कम समय बचा है। ऐसे में समर्थन के नए हलफनामों मांगे जाने से चुनाव आयोग के फैसले में देरी हो सकती है। बहुमत से लिए गए फैसले में कहा गया कि नए हलफनामे मांगे जाने का एक और मौका देने से दोनों गुटों को खरीद फरोख्त की आशंका बढ़ सकती है।

इससे सही परिणाम नहीं आएग। जबकि लवासा का कहना था कि खरीद-फरोख्त का मुद्दा एक अनुमान भर है। मालूम हो कि लवासा ने मनीला में एशियाई विकास बैंक में उपाध्यक्ष के रूप में शामिल होने के लिए ईसी के रूप में इस्तीफा दे दिया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 भारत-चीन तनाव: जानें क्यों सामरिक रूप से अहम है पैगॉन्ग साउथ बैंक
2 Unlock 4.0 Guidelines HIGHLIGHTS: दिल्ली में सुबह 7 से 11 बजे और शाम 4 से 8 बजे तक ही चलेगी मेट्रो, स्टेशनों के सभी गेट नहीं खुलेंगे
3 चीन में सर्वे: भारत के बारे में क्या सोच रहे हैं चीनी
ये पढ़ा क्या?
X