ताज़ा खबर
 

ईनम गंभीर, जिन्होंने यूएन में नवाज शरीफ की स्पीच पर दिया करारा जवाब

यूएन में चल रही जनरल एसेंबली की मीटिंग में भारत की तरफ से पाकिस्तान को करारा जवाब दिया गया। पाकिस्तान को यह जवाब यूएन में भेजी गई भारतीय राजदूत ईनम गंभीर ने दिया।

यूएन में भेजी गई भारतीय राजदूत ईनम गंभीर

यूएन में चल रही जनरल एसेंबली की मीटिंग में भारत की तरफ से पाकिस्तान को करारा जवाब दिया गया। पाकिस्तान को यह जवाब यूएन में भेजी गई भारतीय राजदूत ईनम गंभीर ने दिया। गंभीर की यह स्पीच नवाज शरीफ के भाषण का जवाब थी जिसे सुनकर वहां बैठे पाकिस्तान के लोग भी कुछ ना कर पाए। गंभीर ने कहा, ‘पाकिस्तान आतंक को शरण देने वाला देश है और उसकी वजह से भारत और बाकी पड़ोसी देशों को भी परेशानी होती है। अब बात हमारे क्षेत्र में भी बाहर होती जा रही है।’ गंभीर ने अपने भाषण में 9/11 का भी जिक्र किया। जिसका बदला लेने के लिए अमेरिका को पाकिस्तान के अबोटाबाद में घुसना पड़ा था। गौरतलब है कि 2011 में अमेरिका ने पाकिस्तान में घुसकर ओसामा बिन लादेन को मार दिया था।

गंभीर ने नवाज शरीफ की स्पीच को ‘पाखंडी उपदेश’ भी कहा था। गंभीर ने कहा, ‘पाकिस्तान की तरफ से अगस्त में ही यहां पाखंडी उपदेश दिए गए थे। लेकिन उसके बाद भी कश्मीर के उरी में हमला हुआ। जिसमें हमारे 18 जवानों की जान चली गई। यह आतंकी हमला सिर्फ उन हमलों की एक कड़ी भर है जो पाकिस्तान काफी वक्त से करता आया है। हमारे पड़ोसी देश में आतंक की ट्रेनिंग दी जाती है। जिसका इस्तेमाल हमारे देश पर हमले करने के लिए किया जाता है।’ इसके साथ ही गंभीर ने यह भी कहा कि पाकिस्तान विदेश के विभिन्न संगठनों से मिलने वाले फंड को भी आतंक को बढ़ावा देने के लिए इस्तेमाल करता है। साथ ही गंभीर ने पाकिस्तान को एक ऐसा देश बताया जिसमें लोकतंत्र नहीं है। गंभीर ने कहा कि पाकिस्तान अपने ही लोगों को दबाने के लिए भी आतंक का इस्तेमाल करता है।

इससे पहले नवाज शरीफ ने बुधवार को यूएन में भाषण दिया था। नवाज ने कहा था कि वह भारत से बातचीत करना चाहते हैं। लेकिन साथ ही उन्होंने हिजबुल कमांडर बुरहान वाणी को कश्मीर के लिए आवाज उठाने वाला विद्रोही भी कहा था। साथ ही शरीफ ने कहा था कि वह कश्मीर के लोगों को फुल सपोर्ट करते रहेंगे।

Read Also: नवाज शरीफ ने यूएन चीफ के सामने रोया कश्‍मीर का रोना, की झूठी शिकायत, सबूत के नाम पर सौंपा झूठ का पुलिंदा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App