ताज़ा खबर
 

अरबों के घोटाले में फंसी हैं मीसा भारती, पर घोषित सपंत्ति केवल चार करोड़ की, लालू के सालों के कतरे थे पर

मीसा भारती का नाम मेंटेनेंस ऑफ इनटर्नल सिक्योरिटी एक्ट (मीसा) के नाम पर रखा गया है। उनके जन्म के समय लालू यादव इसी कानून के तहत जेल में बंद थे।

Author July 24, 2017 16:17 pm
मीसा और शैलेश की तीन संतानें हैं। दो बेटियां- दुर्गा और गौरी और एक बेटा है।

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और इनकम टैक्स बिहार के पूर्व मुख्यमंत्रियों लालू यादव और राबड़ी देवी की बड़ी बेटी मीसा भारती और उनके पति शैलेष कुमार के खिलाफ हजारों करोड़ के आर्थिक हेराफेरी के मामले की जांच कर रहे हैं। मीसा भारती राज्य सभा सांसद हैं। पिछले साल राज्य सभा चुनाव में दिए हलफनामे के अनुसार मीसा भारती के पास कुल चार करोड़ की संपत्ति है। इसमें 24.3 लाख रुपये के आभूषण और रत्न भी शामिल हैं। मीसा के पास 33 लाख रुपये कीमत की कृषि योग्य भूमि है। उनके पास गैर-कृषि योग्य 50 लाख रुपये कीमत की जमीन है। 42 वर्षीय मीसा भारती लारा डिस्ट्रिब्यूटर प्राइवेट लिमिटेड की डायरेक्टर हैं। मीसा का नाम मेंटेनेंस ऑफ इनटर्नल सिक्योरिटी एक्ट (मीसा) के नाम पर रखा गया है। मीसा का जन्म आपातकाल के दौर में हुआ था। उनके जन्म के समय लालू यादव इसी कानून के तहत जेल में बंद थे।

मीसा पहली बार मीडिया की सुर्खियों में तब आई थीं जब उनका दाखिला एमजीएम मेडिकल कॉलेज, जमशेदपुर में हुआ। मीसा का एडमिशन टिस्को (टाटा ऑयरन एंड स्टील कंपनी) के कोटे के तहत हुआ था। एमजीएम मेडिकल कॉलेज में टिस्को कोटे में चार सीटें थीं। मीसा ने एमजीएम मेडिकल कॉलेज में केवल एक साल पढ़ाई की। दूसरे साल में उनका तबादला पटना मेडिकल कॉलेज में हो गया था। पटना मेडिकल कॉलेज से मीसा ने एमबीबीसी परीक्षा में टॉप किया। हालांकि उन्होंने कभी प्रैक्टिस नहीं की।

जब चारा घोटाले से जुड़े मामले में लालू यादव को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा तो उन्होंने अपनी पत्नी राबड़ी देवी को राज्य का सीएम बनवाया। माना जाता है कि उस दौर में मीसा राबड़ी की सलाहकार की भूमिका में थीं। लालू यादव के सालों साधु यादव और सुभाष यादव के पर कतरने में भी मीसा की अहम भूमिका मानी जाती है।

lalu, lalu yadav, lalu yadav family बिहार के पूर्व सीएम दंपती लालू यादव और राबड़ी देवी सात बेटियों और दो बेटों के माता-पिता हैं। जानिए इन सबकी संपत्ति और कारोबार के बारे में।

साल 2014 के आम चुनाव में मीसा को राजद के वरिष्ठ नेता और लालू यादव के पुराने सहयोगी राम कृपाल यादव के पार्टी छोड़ने की वजह माना गया। माना जाता है कि मीसा पाटलीपुत्र लोक सभा सीट से चुनाव लड़ना चाहतीं थीं जहां से राम कृपाल लड़ते थे। जब राम कृपाल यादव ने राजद छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया तो इस अफवाह को और बल मिल गया। चुनाव में मीसा और राम कृपाल के बीच मुकाबला हुआ और लालू की बड़ी बेटी को बड़ी हार मिली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) मीसा भारती और उनके इंजीनियर पति शैलेष कुमार के खिलाफ कालेधन के मामले में जांच कर रहा है। शैलेष कुमार 1999 में मीसा से शादी से पहले इंफोसिस में इंजीनियर थे।

ईडी ने हाल ही में राजेश अग्रवाल नामक चार्टेड अकाउंटेंट (सीए) को गिरफ्तार किया है जो मीसा और शैलेष का अकाउंटेट रहा है। मीसा और शैलेष पर फर्जी कंपनियां बनाकर करीब आठ हजार करोड़ रुपये के कालेधन को सफेद बनाने का आरोप है। इस मामले में ईडी मीसा भारती और उनके पति के बिजवासन स्थित फॉर्म हाउस पर छापा भी मारा था। ईडी ने मीसा भारत के फॉर्म हाउस को जब्त कर लिया है। वहीं मीसा भारती और उनके पति का कहना है कि उन्हें राजनीतिक वजहों से फंसाया जा रहा है। मीसा और शैलेष के दो बेटियां और एक बेटा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App