ताज़ा खबर
 

Amnesty इंडिया पर ED का ऐक्शन, 17 करोड़ की संपत्ति जब्त

बयान में कहा गया, ‘‘एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया फाउंडेशन ट्रस्ट (एआईआईएफटी) को एफसीआरए के तहत 2011-12 के दौरान एमनेस्टी इंटरनेशनल ब्रिटेन से विदेशी चंदा हासिल करने की अनुमति दी गयी थी।’’

Author नयी दिल्ली | February 17, 2021 8:21 AM
Amnesty International India, New Delhi, India Newsतस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फाइल फोटो)

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मंगलवार को कहा कि उसने एमनेस्टी इंटरनेशनल (इंडिया) की दो संस्थाओं के खिलाफ धनशोधन के मामले में बैंक में जमा 17 करोड़ रुपये से ज्यादा रकम जब्त की है।

ईडी ने एक बयान में कहा कि उसने धन शोधन रोकथाम कानून के तहत एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (एआईआईपीएल) और इंडियंस फॉर एमनेस्टी इंटरनेशनल ट्रस्ट (आईएआईटी) के बैंक खातों में जमा रकम की जब्ती के लिए अस्थायी आदेश जारी किया है। बयान में कहा गया कि दोनों संस्थाओं ने अपराध के जरिए यह रकम अर्जित की और यह कई चल संपत्ति के रूप में है। आदेश के तहत 17.66 करोड़ रुपये की चल संपत्ति जब्त की गयी है।

एआईआईपीएल, आईएआईटी, एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया फाउंडेशन ट्रस्ट (एआईआईएफटी) और एमनेस्टी इंटरनेशनल साउथ एशिया फाउंडेशन (एआईएसएएफ) के खिलाफ केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा विदेशी अंशदान विनियमन कानून (एफसीआरए) की विभिन्न धाराओं और भारतीय दंड संहिता की धारा 120 बी (आपराधिक साजिश) के तहत दर्ज प्राथमिकी के आधार पर ईडी ने धन शोधन का यह मामला दर्ज किया।

बयान में कहा गया, ‘‘एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया फाउंडेशन ट्रस्ट (एआईआईएफटी) को एफसीआरए के तहत 2011-12 के दौरान एमनेस्टी इंटरनेशनल ब्रिटेन से विदेशी चंदा हासिल करने की अनुमति दी गयी थी।’’ बयान में कहा गया कि हालांकि ‘‘प्रतिकूल’’ सूचनाएं मिलने के आधार पर यह मंजूरी रद्द कर दी गयी।

Next Stories
1 TV पत्रकार राजदीप सरदेसाई के खिलाफ पहले दिखा दिया केस, बाद में SC को देनी पड़ी सफाई- नहीं दर्ज हुआ कोई केस
2 ‘कोई भी किसान आंदोलन का समर्थन करता है तो वह देशद्रोही हो जाता है’, अर्णब के डिबेट में बोलीं प्रियंका राणा
3 कोरोना: देश में साउथ अफ्रीका और ब्राजील के नए वैरिएंट की एंट्री के बाद सरकार सचेत, 5 यात्री किए गए क्वारन्टाइन
ये पढ़ा क्या?
X