ताज़ा खबर
 

पावर और इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर भी दबाव में! बिना बिके पड़े हैं 4 लाख फ्लैट, बिजली वितरण कंपनियों पर 46,412 Cr का बकाया

डाटा के अनुसार, गुरुग्राम, नोएडा, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, बेंगलुरू, हैदराबाद, पुणे और अहमदाबाद में करीब 7,97,623 मकान बिना बिके पड़े हैं। इन बिना बिके मकानों में से 4,12,930 मकान सस्ती श्रेणी वाले मकान हैं।

Author नई दिल्ली | Published on: August 19, 2019 2:43 PM
अर्थव्यवस्था में आयी मंदी का असर कई सेक्टर्स पर दिख रहा है।

देश की अर्थव्यवस्था इन दिनों सुस्ती के दौर से गुजर रही है। जिसका असर अर्थव्यवस्था के कई सेक्टर्स पर पड़ रहा है। पॉवर और इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर भी इस मंदी से अछूते नहीं हैं। पॉवर सेक्टर की बात करें तो वितरण कंपनियों पर बिजली उत्पादकों का बकाया इस साल जून महीने के अंत में एक साल पहले की तुलना में 30 प्रतिशत से भी अधिक बढ़कर 46,412 करोड़ रुपये तक पहुंच गया।

डिस्ट्रीब्यूशन कंपनियों पर है करोड़ो का बकायाः बिजली मंत्रालय की प्राप्ति पोर्टल पर दी गई जानकारी के अनुसार, जून 2018 में डिस्ट्रीब्यूशन कंपनियों पर पॉवर जेनरेशन कंपनियों का 34,465 करोड़ रुपए बकाया है। बता दें कि उत्पादक और वितरण कंपनियों के बीच बिजली खरीद सौदों में पारर्दिशता लाने के इरादे से पोर्टल की शुरूआत मई 2018 में हुई थी।

इस साल जून में उत्पादन कंपनियों द्वारा दी गयी 60 दिन की मोहलत के बाद भी वितरण कंपनियों के ऊपर बकाया राशि 30,552 करोड़ रुपये रही जो पिछले साल इसी महीने में 21,739 करोड़ रुपये थी। बिजली उत्पादक कंपनियां बिजली की आपूर्ति के लिये बिलों के भुगतान को लेकर बिजली वितरकों को 60 दिन का समय देती हैं। उसके बाद बकाया राशि पुराने बकायों की श्रेणी में आ जाती है और उस पर उत्पादक ज्यादातर मामलों में दंड ब्याज लगाते हैं।

जिन बिजली वितरण कंपनियों पर सर्वाधिक बकाया है, उसमें तमिलनाडु, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, मध्य प्रदेश और जम्मू कश्मीर की वितरण इकाइयां शामिल हैं। वे भुगतान में 839 दिन तक का समय ले रही हैं।

इन कंपनियों का है बकायाः सार्वजनिक क्षेत्र की बिजली उत्पादक कंपनियों में एनटीपीसी का वितरण कंपनियों पर 6,3412.94 करोड़ रुपये, एनएलसी इंडिया का 4,604 करोड़ रुपये, टीएचडीसी इंडिया 1,971.73 करोड़ रुपये, एनएचपीसी का 1,963.71 करोड़ रुपये तथा दामोदर घाटी निगम का 843.79 करोड़ रुपये बकाया है। जिन बिजली वितरण कंपनियों पर सर्वाधिक बकाया है, उसमें अडाणी पावर (3,201.68 करोड़ रुपये), बजाज समूह के स्वामित्व वाली ललितपुर पावर जनरेशन कंपनी (1,980.26 करोड़ रुपये) तथा जीएमआर (1,733.18 करोड़ रुपये) शामिल हैं।

4 लाख से ज्यादा बिना बिके पड़े हैं मकानः इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर की बात करें तो ब्रोकरेज फर्म प्रोपटाइगर की एक रिपोर्ट के अनुसार, देश के 9 शहरों में अफोर्डेबल (सस्ती) श्रेणी के 4 लाख से ज्यादा मकान बिना बिके पड़े हैं। रिपोर्ट में बताया गया है कि चूंकि सरकार जल्द ही होम लोन की ब्याज दर में कटौती का ऐलान कर सकती है, ऐसे में इन मकानों की बिक्री में आने वाले दिनों में तेजी आ सकती है।

डाटा के अनुसार, गुरुग्राम, नोएडा, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, बेंगलुरू, हैदराबाद, पुणे और अहमदाबाद में करीब 7,97,623 मकान बिना बिके पड़े हैं। इन बिना बिके मकानों में से 4,12,930 मकान सस्ती श्रेणी वाले मकान हैं। जिनकी कीमत 45 लाख से कम है। रिपोर्ट के अनुसार, सबसे ज्यादा बिना बिके मकान मुंबई में हैं, जहां 1,39,984 मकान खाली पड़े हैं।

(भाषा इनपुट के साथ)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 संयुक्त राष्ट्र में पाक-चीन की करारी हार पर कुमार विश्वास ने कसा तंज, कहा- चल सिंधु में डूब जाएं
2 गृह मंत्री ‘अमित भाई’ तय कर रहे कर्नाटक सरकार के मंत्री! जानें क्या बोले सीएम येदियुरप्पा
3 नहीं रहे बिहार के पूर्व CM जगन्नाथ मिश्र, ‘मौलाना’ नाम से थे मशहूर; इंदिरा सरकार को दे डाली थी चुनौती