ताज़ा खबर
 

Economic Package: एक्सपर्ट का दावा- 50 हजार करोड़ में से बैंकों ने लिए केवल ढाई हजार करोड़, दलील- कर्ज देंगे किसे?

Economic Package: अर्थव्यवस्था के जानकर ऑनिंद्यो चक्रवर्ती कहते हैं कि सरकार पांच लाख करोड़, आठ लाख करोड़ और एक लाख सत्तर हजार करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज की पहले ही घोषणा हो चुकी है।

bankतस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

Economic Package: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन से प्रभावित अर्थव्यवस्था को उबारने और किसानों, श्रमिकों, मध्यमवर्ग के लोगों समेत समाज के सभी प्रभावित वर्गों और क्षेत्रों को राहत देने के लिए 20 लाख करोड़ रुपए के विशेष आर्थिक पैकेज की घोषणा की। देश के नाम टीवी पर संदेश में उन्होंने कहा कि सरकार के हाल के निर्णय, रिजर्व बैंक की घोषणाओं को मिलाकर यह पैकेज करीब 20 लाख करोड़ रुपए का होगा जो देश के सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 10 फीसदी है।

पीएम मोदी की इस घोषणा पर एनडीटीवी के प्राइम टाइम शो पर अर्थव्यवस्था के जानकर ऑनिंद्यो चक्रवर्ती ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि पहले यह जानना जरुरी है कि 20 लाख करोड़ रुपए में आरबीआई कितना लिक्विडिटी दे रहा है। इसका मतलब है कि आरबीआई लोन के लिए कितना पैसा बैंको के सामने रखा रहा है। उन्होंने कहा कि आईबीआई आठ लाख करोड़ रुपए पहले ही दे चुका है या इसकी घोषणा कर चुका है। बचते हैं 12 लाख करोड़ रुपए। मई के शुरुआती सप्ताह में ही म्यूचुअल फंड को पैसा मिले, इसके लिए आरबीआई ने बैंकों को पचास हजार करोड़ रुपए दिए थे। इसमें से भी बैंकों ने पांच फीसदी उठाया है, क्योंकि लोन देना आसान है मगर बैंक लोन उसी को देगा जो वापस कर सकता है। अर्थात कर्ज लेने के लिए पहले देने के बार में सोचना पड़ता है। ऐसे में आरबीआई ने लिक्विडिटी आठ लाख करोड़ रुपए बढ़ा दी है मगर लोन लेने वाला कोई है ही नहीं। ऐसे में बीस से आठ करोड़ रुपए तो आप पहले ही निकाल लीजिए। सरकार एक लाख सत्तर हजार करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज की घोषणा पहले कर चुकी है। इसमें भी सत्तर हजार करोड़ रुपए पहले के हैं।

Uttar Pradesh Coronavirus LIVE Updates

ऑनिंद्यो चक्रवर्ती ने कहा कि नरेगा के लिए दस हजार करोड़ रुपए क्या नए आर्थिक पैकेज से इतर है, इसकी जानकारी अभी नहीं है। निर्माणधीन इमारतों के मजदूरों और अन्य क्षेत्रों को जोड़ लें तो कहा जा सकता है कि करीब 1.10 लाख करोड़ रुपए की आर्थिक मदद की घोषणा हुई। उन्होंने अपने बैंकर मित्र के हवाले से बताया कि सरकार आरबीआई से छोटे उद्योगों के लिए बैंकों को पांच लाख करोड़ रुपए देने को कहेगी। इसमें अगर बैंकों का पैसा डूबता है तो सरकार इसमें करीब पचास फीसदी वहन करेगी। ऐसे में पांच लाख करोड़, आठ लाख करोड़ और एक लाख सत्तर हजार करोड़ रुपए की पहले ही घोषणा हो चुकी है।

Coronavirus Rajasthan LIVE Updates

चक्रवर्ती के मुताबिक अगर सभी आर्थिक पैकेज को जोड़ लें तो करीब 6 लाख करोड़ रुपए बचते हैं। इसमें भी कम से कम 2 लाख करोड़ रुपए के पुराने पैकेज को नया करके दिखाय जाएगा। जैसे 70 हजार करोड़ को नया पैकेज बताया गया था। ऐसे में वास्तविक खर्च चार-साढ़े लाख करोड़ रुपए से ज्यादा नहीं होगा जो कि हमारी जीडीपी का दो से ढाई फीसदी बैठता है और यही वास्तविकता है।

इसके अलावा CAIT के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि इस आर्थिक पैकेज का बड़ा हिस्सा सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (MSME) सेक्टर को दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वर्तमान में जिन चुनौतियों और आर्थिक संकट से यह सेक्टर जूझ रहा है, इसे आर्थिक पैकेज की जरुरत है। इसमें स्पष्ट रूप से साफ होना चाहिए कि व्यापारियों को वित्तीय संकट से कैसे उबारा जाए। बता दें कि पैकेज के बारे में विस्तृत ब्योरा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बुधवार यानी आज से अगले कुछ दिनों तक देंगी।

यहां देखें वीडियो-

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 तीन दिन सफर के बाद 200 KM दूर था घर, साबित हुआ बीवी-बच्चों का अंतिम सफर, बोला- अब इनकी लाशें लेकर जा रहा हूं