ताज़ा खबर
 

प. बंगाल चुनाव: ममता बनर्जी पर आयोग का बैन, तृणमूल के डेरेक ओ’ब्रायन बोले- EC मतलब Extremely Compromised

आयोग ने ममता बनर्जी के बयानों को अत्यधिक अपमानजनक और  लॉ एंड आर्डर के लिए खतरा बताया है।

bengal election, mamata banerjee, ECचुनाव प्रचार पर बैन लगाए जाने के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को धरना देने का ऐलान किया है। (फोटो- एएनआई)

चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को 24 घंटे के लिए चुनाव प्रचार करने से रोक दिया है। आयोग ने ममता बनर्जी के बयानों को अत्यधिक अपमानजनक और  लॉ एंड आर्डर के लिए खतरा बताया है। वहीं ममता बनर्जी के चुनाव प्रचार पर रोक लगने के बाद तृणमूल सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि चुनाव आयोग(EC) का मतलब Extremely Compromised(अत्यधिक समझौतावादी) है। बैन लगने के बाद ममता बनर्जी 12 अप्रैल की रात 8 बजे से 13 अप्रैल की रात 8 बजे तक किसी भी तरह का चुनाव प्रचार नहीं कर पाएंगी।

चुनाव प्रचार पर बैन लगाए जाने के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को धरना देने का ऐलान किया है।टीएमसी अध्यक्ष ममता बनर्जी ने ट्वीट कर कहा कि निर्वाचन आयोग के अलोकतांत्रिक और असंवैधानिक निर्णय के विरोध में मैं कल दोपहर 12 बजे कोलकाता के गांधी मूर्ति के पास धरने पर बैठूंगी। इससे पहले सोमवार को दमदम में एक चुनावी रैली में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि मैं चुनाव आयोग से हाथ जोड़कर निवेदन करती हूं कि सिर्फ भाजपा की न सुनें, सभी की सुनें, पक्षपाती न बनें।

चुनाव आयोग ने अपने आदेश में कहा है कि ममता बनर्जी ने चुनाव आचार संहिता के साथ ही जनप्रतिनिधित्व कानून, 1951 की धारा 123 (3) और 3a और आईपीसी, 1860 की धारा समेत कई अन्य धाराओं का उल्लंघन किया है। पिछले दिनों ममता बनर्जी ने एक रैली में कहा था कि यदि केंद्रीय बल रुकावट पैदा करते हैं तो एक समूह उनका घेराव करे और दूसरा जाकर वोट डाले।

 इसके अलावा ममता बनर्जी ने एक चुनावी रैली में अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों से एकजुट होकर वोट करने की अपील भी की थी। जिसके बाद चुनाव आयोग ने उन्हें नोटिस थमा दिया था। नोटिस जारी होने के बाद ममता बनर्जी ने कहा था कि चुनाव आयोग चाहे 10 नोटिस जारी कर दे लेकिन वे अपने बयान पर कायम हैं।

चौथे चरण की वोटिंग के दौरान कूचबिहार में फायरिंग के कारण  4 लोगों की मौत हो गई थी। जिसके बाद ममता बनर्जी ने ट्वीट करते हुए लिखा था कि चुनाव आयोग को MCC(मॉडल कोड ऑफ़ कंडक्ट) का नाम बदलकर मोदी कोड ऑफ कंडक्ट रख लेना चाहिए। भाजपा भले ही अपनी पूरी ताकत लगा ले लेकिन इस दुनिया में मुझे कोई भी अपने लोगों के साथ होने और उनके दर्द बांटने से नहीं रोक सकती।

 

Next Stories
1 राफेल डील में दस लाख यूरो की दलाली! जाते-जाते पीआईएल पर तारीख दे गए सीजेआई एसए बोबडे
2 क्‍या कर रही सरकार? ल‍िख‍ित में बताए-गुजरात हाईकोर्ट ने कोरोना से न‍िपटने के उपायों पर जताई नाखुशी
3 दिल्ली पुलिस का दावाः 26 जनवरी का वीडियो दर्शाता है दीप सिद्धू की राष्ट्र विरोधी मंशा, बचाव पक्ष का तर्क- आरोपी ने जो कहा वो जय श्रीराम बोलने जैसा
यह पढ़ा क्या?
X