ताज़ा खबर
 

और कड़े होंगे E-Commerce नियम! फ्लैश सेल पर लगे बैन- प्रस्ताव, जानें- क्या है प्लान

मंत्रालय के अनुसार, प्रस्तावित संशोधनों का उद्देश्य ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म में पारदर्शिता लाना और नियामक व्यवस्था को और मजबूत करना है।

नयी दिल्ली | Updated: June 22, 2021 8:05 AM
तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Freepik)

सरकार ने ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर गलत और भारी छूट के साथ धोखाधड़ी भरी बिक्री पर बैन लगाने व डीपीआईआईटी के साथ इन कंपनियों का रजिस्ट्रेशन जरूरी करने का प्रस्ताव रखते हुए उपभोक्ता संरक्षण (ई-कॉमर्स) नियम, 2020 में संशोधन के लिए सुझाव आमंत्रित किए हैं।

सरकार इसके अलावा इंटरनेट पर सर्च रिजल्ट्स (खोज परिणामों) में हेराफेरी कर यूजर्स को गुमराह करने पर बैन और मुख्य अनुपालन अधिकारी व निवासी शिकायत अधिकारी की नियुक्ति सहित कुछ अन्य संशोधनों पर भी विचार कर रही है। प्रस्तावित संशोधनों में ई-कॉमर्स संस्थाओं को किसी भी कानून के तहत अपराधों की रोकथाम, पता लगाने और जांच और अभियोजन के लिए सरकारी एजेंसी से आदेश मिलने के 72 घंटे के अंदर सूचना देनी होगी।

उपभोक्ता संरक्षण (ई-कॉमर्स) नियम, 2020 को पहली बार पिछले साल जुलाई में अधिसूचित किया गया था। इसके उल्लंघन में उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम, 2019 के तहत दंडात्मक कार्रवाई की जा सकती है। सरकार ई-कॉमर्स संस्थाओं को उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (डीपीआईआईटी) में रजिस्ट्रेशन कराने की योजना भी बना रही है।

उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के संयुक्त सचिव ने एक सार्वजनिक सूचना में कहा, ‘‘प्रस्तावित संशोधनों पर विचार/टिप्पणियां/सुझाव 15 दिनों के भीतर (6 जुलाई, 2021 तक) ईमेल द्वारा जेएस-सीए@एनआईसी.आईएन (js-ca@nic.in) पर भेजे जा सकते हैं।’’ सरकार ने एक अलग बयान में कहा कि उसे पीड़ित उपभोक्ताओं, व्यापारियों और संघों से ई-कॉमर्स प्रक्रिया में व्यापक धोखाधड़ी और अनुचित व्यापार प्रथाओं के खिलाफ शिकायत के कई अभ्यावेदन प्राप्त हुए हैं।

हालांकि, मंत्रालय ने कहा कि पारंपरिक तौर पर आयोजित होने वाली ई-कॉमर्स रियायती बिक्री पर प्रतिबंध नहीं होगा। केवल विशिष्ट तौर पर ग्राहकों को घेरने के लिहाज से की जाने वाली बिक्री या बार-बार फ़्लैश बिक्री, कीमतों में वृद्धि करती है और सबके के लिए एक समान अवसर वाला मंच उपलब्ध कराने से रोकती है, ऐसी बिक्री की अनुमति नहीं होगी।

बता दें कि मौजूदा समय में इ-कॉमर्स कंपनियां कंपनी अधिनियम, भारतीय भागीदारी अधिनियम या सीमित देयता भागीदारी अधिनियम के तहत पंजीकृत हैं न कि डीपीआईआईटी के साथ अलग से। मंत्रालय के अनुसार, प्रस्तावित संशोधनों का उद्देश्य ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म में पारदर्शिता लाना और नियामक व्यवस्था को और मजबूत करना है।

Next Stories
1 ढिंढोरा पीटा जा रहा है कि सबसे बड़ा टीका अभियान, फिर भी दिन बीतने पर 1 करोड़ की संख्या न छू सके- रवीश कुमार का तंज
2 तीसरा मोर्चा नहीं विकल्प, “क्या करेगा काम” कर रहे विचार- PK, TMC के सिन्हा बोले- बैठक मोर्चे पर नहीं
3 राजनीतिक प्रक्रिया की कवायद: कश्मीर में परिसीमन की क्या है तैयारी
ये पढ़ा क्या?
X