ताज़ा खबर
 

देश के कई हिस्‍सों में आंधी-तूफान आने की आशंका, इन राज्‍यों में ज्‍यादा खतरा

दिल्ली सहित भारत के कई हिस्सों में शुक्रवार तक आंधी-तूफान आने और तेज हवाएं चलने के आसार हैं।

Author नई दिल्ली | May 16, 2018 2:56 PM

दिल्ली सहित भारत के कई हिस्सों में शुक्रवार तक आंधी-तूफान आने और तेज हवाएं चलने के आसार हैं। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) बुधवार को यह जानकारी दी।
आईएमडी ने कहा कि बुधवार को जम्मू एवं कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, बिहार, झारखंड, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों, कनार्टक के तटीय इलाकों, तमिलनाडु, पुडुच्चेरी और केरल जैसे राज्यों में आंधी-तूफान आने के आसार हैं।

आईएमडी की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया कि पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और कर्नाटक में शुक्रवार तक ऐसा मौसम देखने को मिल सकता है। मौसम विभाग ने अगले दो दिनों में हिमाचल प्रदेश, जम्मू एवं कश्मीर और उत्तराखंड में भी आंधी-तूफान आने की चेतावनी दी है। उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल और दिल्ली में रविवार को आई धूल भरी आंधी और आकाशीय बिजली की चपेट में आकर 50 से ज्यादा लोगों मौत हो गई थी।

बता दें कि धूलभरी आंधी-तूफान, ओला वृष्टि और आकाशीय बिजली की वजह से उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल और दिल्ली में 53 लोगों की मौत हो गई। सोमवार को गृह मंत्रालय ने यह जानकारी दी। गृह मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार, 13-14 मई के बीच की रात उत्तर प्रदेश में आकाशीय बिजली व तूफान के कारण 39 लोग मारे गए, जबकि आंध्र प्रदेश में नौ लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी।

वहीं दूसरी ओर उत्तर प्रदेश की राजधानी में सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि बाढ़ प्रभावित जिलों के जिलाधिकारियों को अल्टीमेटम दे दिया गया है कि 15 जून तक सभी जिलाधिकारी बाढ़ प्रभावित इलाकों में सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराएं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के 26 जिले अतिसंवेदनशील और 14 जिले संवेदनशील हैं। इन सभी जिलों के जिलाधिकारी और अन्य अधिकारी बुलाए गए थे। इस बैठक में 40 जिलों के जिला अधिकारियों को बुलाया गया था।

योगी ने कहा कि बाढ़ के समय किस तरह काम किया जाए, इसके लिए सभी अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं। रविवार रात आए आंधी-तूफान की वजह से कई जिलों के जिलाधिकारी इस बैठक में नहीं आ पाए। ज्ञात हो कि पिछले साल 22 जिलों में बाढ़ आई थी। उन सभी 22 जिलों की समीक्षा की गई। बैठक में सभी विभागों में समन्वय बनाने को कहा गया। प्रदेश में बाढ़ से निपटने के लिए एसडीआरएफ के अलावा पीएसी की 11 कंपनियों को स्पेशल ट्रेनिंग दी जा रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App