ताज़ा खबर
 

सुबह से खड़े लोगों को दोपहर बाद मिला राशन

राशन से लंबी कतार दिल्ली के बैंकों के बाहर नजर आई। इन केंद्रों पर व्यवस्था बनाने में पुलिस ने बैंक की काफी मदद की। दरअसल सभी बुजुर्गों की पेंशन व सरकारी ऐलान के मुताबिक बैंक खातों में पांच हजार रुपए आने की सूचना के बाद ये लाइनें सरकारी बैंकों के बाहर नजर आई। यहां बच्चों और बुजुर्ग लाइन में दिखे।इनमें ज्योति कॉलोनी एसबीआइ, छज्जुपुर, और घौंडा जैसी बैंक शाखा शामिल थी।

राशन के लिए लाइन लगाए लोग।

छज्जुपुर में रहने वाली गुड्डी को रात में ही मोबाइल पर संदेश आ गया था कि सुबह 11 बजे से 2 बजे तक राशन मिलेगा। गुड्डी उन लाखों उपभोक्ताओं में से एक हैं, जिसके पास राशन कार्ड नहीं है और राशन के लिए उसने सरकारी वेबसाइट पर पंजीयन कराया था। ऐसे सैकड़ों लोग राशन के लिए सुबह 9 बजे से कतार में थे लेकिन 2 बजे के बाद ही वितरण शुरू हो पाया।
राशन केंद्र पर राशन देरी से पहुंचा जिससे परेशानी खड़ी हो गई। इस वजह से केंद्रों पर भीड़ बढ़ गई।

दिल्ली सरकार ने मंगलवार से ही स्कूलों के माध्यम से राशन वितरण करने की योजना तैयार की थी। योजना के तहत बिना राशन कार्ड वालों को 5 किलो राशन दिया जाना था। गुड्डी की तरह ही राजेंद्र और मो कासिम भी ऐसे ही लोगों में शामिल थे। उस जैसे बहुत सारे लोगों को यह संदेश पहुंच था।

इन केंद्रों पर दोपहर के समय में भीड़ अधिक हो गई और तैनात सिविल डिफेंस के कर्मचारियों को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। खराब व्यवस्था का सबसे बड़ा कारण यह था कि इन केंद्र पर ही दिल्ली सरकार द्वारा भोजन वितरण का भी काम चल रहा था। प्रबंधन के काम में लगे कर्मचारियों ने व्यवस्था को दोषी ठहराया। राशन वितरण के लिए दिल्ली सरकार की तरफ से ई-कूपन जारी किए गए थे। इस ई-कूपन पर ही लोगों को बताया गया था कि उनको कहां से राशन मिलेगा। दिल्ली भर में कई केंद्र पर यह राशन नहीं पहुंचने की शिकायत सामने आई हैं। लोगों को राशन के लिए नई तारीख 8 अप्रैल दी गई है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 जनसत्ता विशेष: गंगा जल हुआ साफ, प्रवासी पक्षी भी जमे हैं तटों पर
2 जनसत्ता विशेष: चाय की चुस्की पर चिपका विषाणु
3 जनसत्ता विशेष: वृंदावन में गरीबों के लिए खाना बनाने में जुटे विदेशी