ताज़ा खबर
 

दलों के बाद अब निगम में भी छठ पर रार

दक्षिण निगम की महापौर अनामिका ने दिल्ली सरकार से अनुरोध किया है कि छठ महापर्व के आयोजन की अनुमति दी जाए। उन्होंने कहा कि जैसे अन्य त्योहार उचित दूरी के नियमों का पालन करते हुए मनाएं जा सकते हैं तो छठ पर्व के आयोजन के लिए भी वैकल्पिक व्यवस्था बनाई जा सकती है। उन्होंने कहा कि निगम की ओर से हर संभव प्रयास किया जाएगा कि कोरोना के बचाव संबंधी उपाय और नियमों का पालन करते हुए सभी छठ घाटों पर छठ मईया का हर्षोल्लास से पूजन किया जाए।

poojaछठ पूजन करते श्रद्धालु। फाइल फोटो।

दिल्ली में कोरोना की वजह से छठ पूजा पर भी राजनीतिक घमासान शुरू हो गया है। आम आदमी पार्टी, भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के बीच आरोप-प्रत्यारोप अब दिल्ली नगर निगम की राजनीति में भी सीधे तौर पर देखा जाने लगा है। उत्तरी निगम के महापौर जहां छठ घाट का निरीक्षण कर रहे हैं। वहीं, दक्षिणी नगर निगम ने छठ पूजा के लिए निगम बैठक में प्रस्ताव पास कर पाला दिल्ली सरकार पर डाल दिया है।

दक्षिण निगम की महापौर अनामिका ने दिल्ली सरकार से अनुरोध किया है कि छठ महापर्व के आयोजन की अनुमति दी जाए। उन्होंने कहा कि जैसे अन्य त्योहार उचित दूरी के नियमों का पालन करते हुए मनाएं जा सकते हैं तो छठ पर्व के आयोजन के लिए भी वैकल्पिक व्यवस्था बनाई जा सकती है। उन्होंने कहा कि निगम की ओर से हर संभव प्रयास किया जाएगा कि कोरोना के बचाव संबंधी उपाय और नियमों का पालन करते हुए सभी छठ घाटों पर छठ मईया का हर्षोल्लास से पूजन किया जाए।

उत्तरी दिल्ली के महापौर जय प्रकाश ने निगम के विभिन्न छठ घाटों का निरीक्षण करते हुए अधिकारियों को छठ पूजा से पहले सभी घाटों पर सुविधाएं सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि दिल्ली में छठ पर्व पूर्वांचलवासियों के लिए सूर्य उपासना व आस्था का महान पर्व है और उस दिन पूर्वांचल वासी इसका आयोजन बहुत हर्षोउल्लास व जोर-शोर करते हैं जिसके लिए जरूरी है कि छठ घाटों पर सभी व्यवस्थाओं का उचित प्रबंध हो।

रावत ने कहा कि भाजपा को गृह मंत्री अमित शाह से छठ पर्व मनाने की अनुमति लेकर आना चाहिए। उधर, कांग्रेस के मध्य जोन के पूर्व अध्यक्ष खविंदर सिंह कैप्टन का कहना है कि आस्था के इस महापर्व पर किसी भी तरह की राजनीति नहीं करना चाहती। छठ पर्व उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगों के जीवन में एक महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। लेकिन दिल्ली में भी दो दशक से यह हमारी संस्कृति से जुड़ा हुआ पर्व हो गया है।

कोरोना में भीड़ पर पाबंदी जरूरी है लेकिन छठी मइया का आशीर्वाद भी हम सभी दिल्ली वालो के लिए बड़ा महत्व रखता है। इसलिए राजनीति से ऊपर उठकर और मेरे जैसे लाखों लोगों की आस्था को देखते हुए कोई वैकल्पिक व्यवस्था की ओर सरकार को सोचना चाहिए। आप के उत्तरी निगम के पार्षद राकेश कुमार ने कहा कि अरविंद केजरीवाल ने ही 72 घाटों से छठ पूजा की शुरूआत की थी और आज पूरी दिल्ली में 1200 से अधिक घाटों पर छठ पूजा की जाती है।

भाजपा छठ पर कर रही राजनीति : पार्षद

पूर्वी नगर निगम के पश्चिमी विनोद नगर की निगम पार्षद गीता रावत का कहना है कि केंद्र सरकार ने दिशानिर्देश जारी कर छठ पर्व मनाने पर रोक लगा दी है, फिर भी भाजपा अरविंद केजरीवाल सरकार पर छठ पूजा की अनुमति नहीं देने का आरोप लगाकर राजनीति कर रही है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 भूटान के भीतर चीन का बस गया गांव? जहां डोकलाम पर हुआ था आमना सामना, वहां से महज 9Km दूर लोकेशन होने का दावा
2 बिना इजाज़त सरकारी घर में रह रहे बिरजू महाराज, जतिन दास जैसे कई दिग्गज, सरकार बोली- अब खाली नहीं किया तो वसूलेंगे करोड़ों का बकाया और जुर्माना
3 सोनिया को चिट्ठी लिखने वाले कपिल सिब्बल बोले- कांग्रेस नहीं रही जनता की पसंद, सब जान कर भी ख़ामोश है नेतृत्व
यह पढ़ा क्या?
X