ताज़ा खबर
 

भारतीय सेना की ताकत में इजाफा, जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइल का सफल परीक्षण

इस मिसाइल के सफल परीक्षण के बाद भारतीय सेना जमीन से ही किसी भी संदिग्ध एअरक्राफ्ट, हेलीकॉप्टर, एंटी-शिप मिसाइल, यूएवी, बैलेस्टिक मिसाइल, क्रूज मिसाइल और कॉम्बैट जेट को हवा में ही नेस्तानाबूत कर सकती है।

डीआरडीओ ने ओडिशा के तट से मिसाइल का सफल परीक्षण किया। (Image source-ANI)

भारत की ताकत में और इजाफा हुआ है। दरअसल डीआरडीओ ने मंगलवार को जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया। यह परीक्षण ओडिशा में किया गया। परीक्षण की गई मिसाइले डीआरडीओ ने भारतीय सेना के लिए विकसित की हैं। इस मिसाइल के परीक्षण से भारत की वायु सुरक्षा में और मजबूती आएगी। इस मिसाइल के सफल परीक्षण के बाद भारतीय सेना जमीन से ही किसी भी संदिग्ध एअरक्राफ्ट, हेलीकॉप्टर, एंटी-शिप मिसाइल, यूएवी, बैलेस्टिक मिसाइल, क्रूज मिसाइल और कॉम्बैट जेट को हवा में ही नेस्तानाबूत कर सकती है। इससे पहले डीआरडीओ ने बीते माह ही लंबी दूरी की जमीन से हवा में मार करने वाली बराक-8 मिसाइल का सफल परीक्षण किया था। बराक-8 मिसाइल को नेवल शिप से लॉन्च किया जा सकता है। यह परीक्षण भी ओडिशा के तटवर्ती इलाकों में किया गया था।

खबर के अनुसार, भारत ने Quick Reaction Surface to Air Missile (QRSAM) का दो बार सफल परीक्षण किया। इस मिसाइल की मारक क्षमता 30 किलोमीटर है। इस मिसाइल को विकसित करने में डीआरडीओ, भारत डायनेमिक्स लिमिटेड के साथ हैदराबाद स्थित एपीजे अब्दुल कलाम रिसर्च सेंटर ने भी मदद की। QRSAM का इससे पहले 2017 में भी 4 बार सफल परीक्षण किया जा चुका है। इस मिसाइल की सफल परीक्षण की खबर भी मंगलवार को ही आयी है, जब भारतीय वायुसेना ने लाइन ऑफ कंट्रोल पार कर पाकिस्तान में स्थित आतंकी संगठनों को तबाह कर दिया।

भारतीय वायुसेना के इस हमले में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का बालाकोट में स्थित अहम ट्रेनिंग सेंटर तबाह हो गया। इस हमले में 200-300 आतंकियों के मारे जाने की खबर है। वहीं इस हमले को लेकर पाकिस्तान में भी इमरजेंसी बैठकें हो रही हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App