ताज़ा खबर
 

दिल्ली में आयुष्मान भारत योजना लागू न होना दुर्भाग्यपूर्ण: डॉ हर्षवर्धन

डॉक्टर हर्षवर्धन ने बताया कि विभिन्न राज्यों ने इस योजना को अपने यहां न सिर्फ बेहतर तरीके से लागू किया है बल्कि अपने स्तर पर भी कुछ न कुछ नया जोड़ा है।

Author Published on: September 18, 2019 12:44 AM
केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने राष्ट्रीय मीडिया केंद्र में हुई प्रेस वार्ता में यह जानकारी दी। फोटोः (पीटीआई)

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने दिल्ली में आयुष्मान योजना के लागू नहीं होने को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। योजना का एक साल पूरा होने पर मंगलवार को एक प्रेसवार्ता में डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि जहां पूरे देश का कमजोर वर्ग इसका लाभ ले रहा है, वहीं दिल्ली के लोग इस लाभ से वंचित हैं।
उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री का पदभार संभालने के तुरंत बाद मैंने दिल्ली के मुख्यमंत्री को पत्र लिखा। फिर उनसे फोन पर बात भी की लेकिन वे इस योजना को दिल्ली में लागू करने के लिए नहीं माने। इस महत्त्वाकांक्षी योजना से दिल्ली के गरीबों को दूर रखना दुर्भाग्यपूर्ण है।

साल 2018 में शुरू हुई आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत एक साल में करीब 47 लाख लोगों का इलाज हुआ है जबकि अब तक इस योजना पर 7500 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। इस योजना के तहत 21 हजार से अधिक स्वास्थ्य एवं कल्याण केंद्रों की स्थापना हुई है और हर दिन करीब 25 हजार मरीजों को अस्पतालों में भर्ती किया जाता है।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने राष्ट्रीय मीडिया केंद्र में हुई प्रेस वार्ता में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत अब तक दो सेकंड में एक ई-कार्ड की दर से 10 करोड़ लोगों को ई-कार्ड उपलब्ध कराए गए हैं। इस मौके पर आयुष्मान भारत के कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) इंदू भूषण भी
मौजूद थे।

डॉक्टर हर्षवर्धन ने बताया कि विभिन्न राज्यों ने इस योजना को अपने यहां न सिर्फ बेहतर तरीके से लागू किया है बल्कि अपने स्तर पर भी कुछ न कुछ नया जोड़ा है। उन्होंने बताया कि इस दौरान महाराष्ट्र ने अपने यहां की नर्सों को आयुर्वेद का प्रशिक्षण दिलाया है, तो वहीं केरल ने विद्यालय राजदूत नियुक्त किए हैं। मंत्री ने बताया कि केंद्र सरकार ने आयुष्मान भारत योजना को बनाकर लागू ही नहीं किया बल्कि उस पर लगातार नजर रखी जा रही है। दिन-प्रतिदिन योजना का मूल्यांकन किया जा रहा है ताकि योजना में सुधार किया जा सके।

उन्होंने बताया कि हमने भ्रष्टाचार के खिलाफ शून्य सहनशीलता की नीति अपनाई है। इसी के तहत शिकायत मिलने और आरोप साबित होने के बाद अस्पतालों के खिलाफ कार्रवाई भी की जा रही है। मंत्री ने बताया कि अब तक 97 अस्पतालों को इस योजना से बाहर किया गया है और छह अस्पतालों के खिलाफ तो पुलिस में मामला दर्ज कराया गया है। मंत्री के मुताबिक 15 से 30 सितंबर तक आयुष्मान पखवाड़ा मनाया जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 भारत में एक इंच भी घुसपैठ बर्दाश्त नहीं: शाह
2 मोइन कुरैशी का दिल्ली में फार्महाउस व बीकानेर में किला कुर्क
3 JNUSU Results 2019: कैंपस के ‘योगी’ को मिले सिर्फ 53 वोट, बोले- दिल से नहीं हारा हूं; दम हो तो वाम दल अलग-अलग लड़ें चुनाव