ताज़ा खबर
 

दर्जनभर नेताओं संग राष्ट्रपति से मिलीं सोनिया गांधी, केंद्र सरकार को राजधर्म सिखाने और अमित शाह को हटाने की मांग

राष्ट्रपति से मुलाकात करने वाले पार्टी शिष्टमंडल में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, वरिष्ठ नेता अहमद पटेल, एके एंटनी, गुलाम नबी आजाद, मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला और कुछ अन्य नेता शामिल थे।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: February 27, 2020 2:47 PM
राष्ट्रपति से मिला कांग्रेस शिष्टमंडल, राजधर्म के पालन और शाह को हटाने की मांग। (twitter)

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अगुवाई में पार्टी के शिष्टमंडल ने बृहस्पतिवार को दिल्ली हिंसा मामले पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात कर आग्रह किया कि वह केंद्र सरकार से राजधर्म का पालन कराने और गृह मंत्री अमित शाह को हटाने के लिए कदम उठाएं।

राष्ट्रपति से मुलाकात करने वाले पार्टी शिष्टमंडल में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, वरिष्ठ नेता अहमद पटेल, एके एंटनी, गुलाम नबी आजाद, मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला और कुछ अन्य नेता शामिल थे।

कोविंद से मुलाकात के बाद सोनिया ने संवाददाताओं से कहा कि सीडब्ल्यूसी की बैठक में हमने दिल्ली में स्थिति को लेकर कई मुद्दों पर चर्चा की थी। हमने राष्ट्रपति से मिलने और अपनी मांगों का ज्ञापन सौंपने का फैसला किया। उन्होंने ज्ञापन के कुछ हिस्से पढ़े और दावा किया कि केंद्र और दिल्ली सरकार हिंसा को लेकर मूकदर्शक बनी रहीं। गृह मंत्री और प्रशासन की निष्क्रियता से बड़े पैमाने पर जानमाल का नुकसान हुआ।

दिल्ली हिंसा: ‘ऊपर से ऑर्डर आ गया रात को, अब सब शांत है’, दो दिन की भारी हिंसा के बाद ऐसे बदले दिल्ली पुलिस के बोल

कांग्रेस की ओर से सौंपे गए ज्ञापन में कहा गया है, ‘‘हम इस बात को दोहराते हैं कि गृह मंत्री को हटाए जाए क्योंकि वह हिंसा को रोकने में अक्षम साबित हुए।” पार्टी ने ज्ञापन में राष्ट्रपति से कहा, “हम आपसे आग्रह करते हैं कि नागरिकों के जीवन, संपत्ति और आजादी की सुरक्षित रखा जाए। हम आशा करते हैं कि आप निर्णायक कदम उठाएंगे।” मनमोहन हिंसा ने कहा कि पिछले कुछ दिनों के भीतर दिल्ली में जो कुछ भी हुआ है वो बहुत चिंताजनक और राष्ट्रीय शर्म का विषय है। यह हालात को नियंत्रित रखने में केंद्र सरकार की पूरी विफलता का प्रमाण है।

सिंह ने कहा कि हमने राष्ट्रपति से कहा है कि वह सरकार से ‘राजधर्म’ का पालन करने के लिए कहें। गौरतलब है कि उत्तर-पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों में भड़की हिंसा में 30 से अधिक लोगों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए।

दिल्ली हिंसा से जुड़ी सभी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

Next Stories
1 Kerala Karunya Plus Lottery KN-305 Today Results: लॉटरी के रिजल्‍ट घोषित, इस टिकट नंबर ने जीता है 70 लाख रुपए का इनाम
2 दिल्ली पुलिस की क्लास लगाने के बाद ट्रांसफर क‍िए गए जज की सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्‍ट‍िस ने की तारीफ, कहा- तमिल होने के चलते न‍ियुक्‍त‍ि के वक्‍त भी हुआ था व‍िरोध
3 तीन दिन में नीतीश का दूसरा मास्टरस्ट्रोक, NRC पर ना के बाद विधानसभा से पारित कराया जातीय जनगणना का प्रस्ताव
ये पढ़ा क्या?
X