58 साल बाद बदलेगा दूरदर्शन का रूप, नया Logo बनाने वाले को 1 लाख का इनाम - Doordarshan decides to change iconic logo calls for public entries winner will get rupees one lakh prize - Jansatta
ताज़ा खबर
 

58 साल बाद बदलेगा दूरदर्शन का रूप, नया Logo बनाने वाले को 1 लाख का इनाम

कम्पटीशन में भाग लेने के लिए आपको 13 अगस्त 2017 तक आवेदन करना होगा।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर। (फाइल)

दूरदर्शन का लोगो(Logo) जल्द ही बदल जाएगा। सरकारी टीवी चैनल दूरदर्शन अपने लोगो को एक नया रूप देगा लेकिन इस काम के लिए उसने सभी भारतीयों को मौका देने का फैसला लिया है। दूरदर्शन का लोगो बीते 58 साल पुराना है लेकिन अब इसे बदला जाएगा। लोगो बनाने वाले को एक लाख रुपये का इनाम भी दिया जाएगा। चैनल ने एक लोगो डिजाइन कम्पटीशन की घोषणा की है। डीडी ने अपने आधिकारिक बयान में कहा है, “दूरदर्शन के लोगो से सालों पुरानी यादें जुड़ी हैं। प्राइवेट चैनलों के कम्पटीशन के चलते, युवाओं की एक नई पीढ़ी को इससे जुड़ने की जरूरत है। इसीलिए भारत के युवा को डीडी से जोड़ने के लिए चैनल नया लोगो लाना चाहता है।”

डीडी ने आगे अपने बयान में कहा है, “डीडी सभी भारतीयों को नए लोगो डिजाइन कम्पटीशन के लिए आमंत्रित करता है।” कम्पटीशन में भाग लेने के लिए आपको 13 अगस्त 2017 तक आवेदन करना होगा। किसी एक शख्स या फिर एक संस्थान के लिए एक ही एंट्री मान्य होगी। वहीं शर्तों के मुताबिक जीतने वाला शख्स या संस्थान इनाम लेने के बाद लोगो पर किसी तरह का कॉपीराइट या अपना अधिकार क्लेम नहीं कर सकता। इसके अलावा ज्यादा जानकारी के लिए आप दूरदर्शन की वेबसाइट पर भी जा सकते हैं।

वीडियो (Source: YouTube/vishnuprasads007)

गौरतलब है दूरदर्शन लंबे समय से कई लोगों के जहन में बसा है। महाभारत, रामायण, मालगुडी डेज, शक्तिमान और न जाने कितने ही शोस से देशभर में कई लोगों की यादें डीडी चैनल से जुड़ी हैं। ऐसे में कुछ लोग चैनल का लोगो न बदलने की गुजारिश भी कर रहे हैं। उन्हीं में से एक अभिनेता आयुष्मान खुराना हैं। आयुष्मान लोगो में बदलाव नहीं देखना चाहते, क्योंकि इसके साथ उनकी बचपन की यादें जुड़ी हैं। आयुष्मान ने मंगलवार को ट्वीट किया, “कृपया दूरदर्शन का लोगो नहीं बदलें। यह मेरे बचपन का प्रतिनिधित्व करता है।”

वीडियो (Source: YouTube/DoordarshanNational)

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App