ताज़ा खबर
 

ट्रंप के कश्मीर पर दिए बयान से संसद में हंगामा, विदेश मंत्री बोले- द्विपक्षीय बातचीत से ही हल होंगे मुद्दे

एस.जयशंकर के अनुसार, 'भारत का यह लगातार स्टैंड रहा है कि पाकिस्तान के साथ के सभी मुद्दे द्विपक्षीय बातचीत के द्वारा ही हल किए जाएंगे

Author नई दिल्ली | July 23, 2019 12:14 PM
केन्द्रीय विदेश मंत्री एस.जयशंकर। (image source-ani/rajya sabha tv)

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता पर दिए गए बयान पर लोकसभा और राज्यसभा में जमकर हंगामा हुआ। विपक्ष इस मुद्दे पर सरकार से सफाई की मांग कर रहा है। वहीं विदेश मंत्री एस.जयशंकर ने राज्यसभा में इस मुद्दे पर सफाई दी और कहा कि ‘वह सदन में यह स्पष्ट करना चाहते हैं कि पीएम मोदी द्वारा ऐसा कोई निवेदन नहीं किया गया है।’ एस.जयशंकर के अनुसार, ‘भारत का यह लगातार स्टैंड रहा है कि पाकिस्तान के साथ के सभी मुद्दे ‘द्विपक्षीय’ बातचीत के द्वारा ही हल किए जाएंगे और बातचीत के लिए पाकिस्तान को पहले सीमापार से आने वाले आतंकवाद पर रोक लगानी होगी।’

गौरतलब है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ मुलाकात के बाद सोमवार को ट्रंप ने कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कश्मीर मुद्दे पर उनसे मध्यस्थता करने के लिए कहा था। अमेरिकी राष्ट्रपति ने दावा किया कि मोदी और उन्होंने पिछले महीने जापान के ओसाका में जी-20 शिखर सम्मेलन के इतर कश्मीर मुद्दे पर चर्चा की थी जहां भारतीय प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें कश्मीर पर तीसरे पक्ष की मध्यस्थता की पेशकश की थी। भारत सरकार ने हालांकि अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के इस विवादास्पद दावे को स्पष्ट तौर पर खारिज कर दिया है। भारत का कहना है कि कश्मीर द्विपक्षीय मुद्दा है और इसमें तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं है।

वहीं कश्मीर मुद्दे पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मध्यस्थता की पेशकश पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने खुशी जाहिर की है। इमरान खान ने मंगलवार को कहा कि ‘दोनों पड़ोसियों के बीच के इस विवादित मुद्दे (कश्मीर मुद्दे) को द्विपक्षीय तरीके से कभी नहीं सुलझाया जा सकता।’

उल्लेखनीय है कि ट्रम्प के इस विवादित बयान को खारिज करते हुये, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया, ‘‘हमने अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा प्रेस को दिये उस बयान को देखा है जिसमें उन्होंने कहा है कि यदि भारत और पाकिस्तान अनुरोध करते हैं तो वह कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता के लिए तैयार हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति से इस तरह का कोई अनुरोध नहीं किया है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘भारत का लगातार यही रुख रहा है कि पाकिस्तान के साथ सभी लंबित मुद्दों पर केवल द्विपक्षीय चर्चा होगी। पाकिस्तान के साथ किसी भी बातचीत के लिए सीमापार आतंकवाद पर रोक जरूरी होगी।’’

राज्यसभा के सभापति वैंकेया नायडू ने डोनाल्ड ट्रंप के बयान पर जारी हंगामे के बीच कहा कि ‘यह एक राष्ट्रीय मुद्दा है। इसमें देश की एकता, अखंडता और राष्ट्रहित निहित हैं। इसलिए हमें इस मुद्दे पर एक स्वर में बोलना चाहिए।’ वहीं इस मुद्दे पर राज्यसभा में हंगामे के चलते सदन दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App