ताज़ा खबर
 

मार्गरेट अल्‍वा का दावा- राजीव गांधी को मौलवियों के आगे झुकने से रोका था लेकिन उन्‍होंने कहा- तलाक लो फिर आओ

कांग्रेस नेता और राजस्‍थान व उत्‍तराखंड की पूर्व राज्‍यपाल मार्गरेट अल्‍वा की किताब 'करेज एंड कमिटमेंट' जल्‍द ही बाजार में आने वाली है।

Author July 16, 2016 09:17 am
कांग्रेस नेता और राजस्‍थान व उत्‍तराखंड की पूर्व राज्‍यपाल मार्गरेट अल्‍वा की किताब ‘करेज एंड कमिटमेंट’ जल्‍द ही बाजार में आने वाली है।

कांग्रेस नेता और राजस्‍थान व उत्‍तराखंड की पूर्व राज्‍यपाल मार्गरेट अल्‍वा की किताब ‘करेज एंड कमिटमेंट’ जल्‍द ही बाजार में आने वाली है। इसमें उन्‍होंने इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, नरसिम्‍हा राव और सोनिया गांधी के साथ काम करने के अनुभव के बारे में लिखा है। किताब में अल्‍वा ने लिखा कि जब राजीव गांधी की सरकार शाह बानो केस में सुप्रीम कोर्ट के फैसले को नजरअंदाज करने पर विचार कर रही थी उन्‍होंने राजीव गांधी को सलाह दी थी कि वे मौलवियों के सामने न झुके। इस पर राजीव गांधी चिल्‍लाए, ”तलाक लो और फिर मेरे पास आओ। मैं तुम्‍हे बताऊंगा कहां जाना है।” अल्‍वा ने बताया कि कांग्रेस को उम्‍मीद थी कि इस मुद्दे पर राजीव गांधी स्‍टैंड लेंगे लेकिन वे झुक गए।

उपराष्‍ट्रपति हामिद अंसारी बोले- देश पर अब भी भारी पड़ रहे हैं नरसिम्‍हा राव के बुरे काम

इस किताब में उस खत को भी शामिल किया गया है जिसमें उन्‍होंने 2008 में कर्नाटक चुनावों में टिकटें बेचने का आरोप लगाया था। इसके बाद सोनिया गांधी ने उनसे इस्‍तीफा ले लिया था। नरसिम्‍हा राव के वरिष्‍ठ नेताओं की जासूसी कराने के खुलासे पर अल्‍वा ने बताया, ”मुझे भी इस बात का पता नहीं था। मैंने उनके साथ काम किया। हो सकता है इसीलिए उन्‍होंने मुझे कैबिनेट रैंक नहीं दी।” हालांकि अल्‍वा ने कहा कि जिस तरह से कांग्रेस ने नरसिम्‍हा राव के साथ बर्ताव किया वह दुखद था। वे कांग्रेस अध्‍यक्ष थे और उनकी मृत्‍यु पर उन्‍हें सम्‍मान मिलना चाहिए था।

बाबरी मस्जिद के वक्‍त बढ़ गई थी नरसिम्‍हा राव की बीपी, हार्ट बीट भी हो गई थी तेज

मार्गरेट अल्‍वा की किताब में लिखा कि राव सरकार ने जब बोफोर्स मामले में दिल्‍ली सरकार के फैसले के खिलाफ अपील करने का निर्णय लिया था तब सोनिया ने पूछा था, ”प्रधानमंत्री क्‍या करना चाहते हैं? वे मुझे जेल भेजना चाहते हैं?” इसमें आगे लिखा है कि एक बार शीला दीक्षित जो कि उस समय पहली बार सांसद चुनी गर्इ थी, ने अल्‍वा से कहा कि उन्‍हें जरूरी काम है और इसलिए पीएम राजीव गांधी के साथ प्‍लेन में उन्‍हें जाने दिया जाए। इसके बाद शीला दीक्षित प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्‍य मंत्री बना दी गई। इस बारे में जब अल्‍वा से पूछा गया तो उन्‍होंने कहा, ”यह सब के लिए रहस्‍य है।” शीला दीक्षित को यूपी में सीएम उम्‍मीदवार बनाए जाने के बारे में मार्गरेट अल्‍वा ने बताया, ”शीलाजी की गांधी परिवार से विशेष पटती है।”

नरसिम्‍हा राव ने 1991 में IB से मांगी थी आर्थिक सुधारों का विरोध करने वाले कांग्रेसियों की लिस्‍ट

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App