कैमरे पर छलका दर्दः लीलावती अस्पताल के डॉक्टर बोले- जान बचाने के लिए चोरी करके वैक्सीन, रेमडेसिवीर का कर रहे जुगाड़

महाराष्ट्र में एक दिन में 63000 हजार नए मामले सामने आए हैं। इस दौरान 309 लोगों की मौत हुई है।

Covid-19 economy, coronavirus impact economy, coronavirus global economy, coronavirus inequalities, covid-19 income disparity, covid-19 locknow, covid-19 job losses, gender inquality covid-19, health inequality covid-19, covid and education,कोरोना के चलते महाराष्ट्र में एक बार फिर मुश्किलें बढ़ती दिखाई दे रही है। (source: express file photo)

देश में कोरोना संकट बढ़ता जा रहा है। महाराष्ट्र में एक दिन में 63000 हजार नए मामले सामने आए हैं। इधर देश भर में मरीजों को दवाओं और वैक्सीन की कमी का भी सामना करना पर रहा है। NDTV के साथ बात करते हुए मुंबई के लीलावती अस्पताल के डॉक्टर ने कहा कि अस्पताल के पास लोगों की जान बचाने के लिए रेमडेसिवीर की काफी कमी है। मरीजों के बचाने के लिए उन्हें दवा का जुगाड़ करना पड़ रहा है।

डॉ जलील पारकर ने कहा कि मेरे अस्पताल में पिछले दो-तीन दिनों से टीके नहीं हैं। रेमडेसिवीर की कमी है,टोसिलिज़ुमैब की भी कमी है। हम मरीजों को बचाने के लिए भीख मांगने, उधार लेने, चोरी करने के लिए मजबूर हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि मेरे तरफ से बस एक ही निवेदन है कि भगवान के लिए रेमडेसिवीर और टोसिलिज़ुमैब को उपलब्ध करवाया जाए। क्योंकि यही एकमात्र तरीका है जिससे हम जीवन बचा सकते हैं।

उन्होंने कहा कि अस्पताल में बेड की भी काफी दिक्कत हैं, अस्पताल में मरीजों की सुनामी आ रही है। बताते चलें कि पिछले 24 घंटे में महाराष्ट्र में 309 लोगों की मौत हुई है। जबकि संक्रमितों की संख्या बढ़कर 34,07,245 हो गई है। राज्य में अब तक 57,987 मरीजों की मौत हो चुकी है।

अगर बात पूरे देश की करें तो रविवार सुबह स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार एक दिन में 1.52 हजार मामले सामने आए थे। बीते 24 घंटे में 839 मरीजों की मौत भी हुई है।

बताते चलें कि सरकार ने रविवार को जीवन रक्षक दवा रेमडेसिवीर और एपीआई के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है। भारत के मरीजों को रेमडेसिवीर की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए यह कदम उठाया गया है। गौरतलब है कि देश भर में इस दवा की कमी होने की बात की जा रही थी। सरकार की तरफ से आदेश दिया गया है कि दवा की उपलब्धता को लेकर घरेलू उत्पादकों को वेबसाइट पर स्टॉक और उसके वितरण का ब्योरा भी लगातार देना होगा।

Next Stories
1 वायरल वीडियोः शिवराज की पुलिस ने कैसे भांजी निहत्थे ग्रामीणों पर लाठियां, देखें
2 बंगाल बीजेपी चीफ के बिगड़े बोल, कहा- “bad boys” नहीं सुधरे तो फिर होगी कूचबिहार जैसी घटना
3 कोरोना का क़हर: लोग अब सड़कों पर मर रहे हैं- डॉक्टर्स से बातचीत में बोले लखनऊ के डीएम
ये पढ़ा क्या?
X