ताज़ा खबर
 

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के इन इलाकों से किया है MBBS तो भारत में प्रैक्टिस की इजाजत नहीं, MCI का नया सर्कुलर

MCI ने सर्कुलर जारी कर कहा कि पाकिस्तान के कब्जे वाला जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत का अभिन्न अंग है, ऐसे में वहां भारत की मान्यता के बिना चल रहे संस्थानों की डिग्री अमान्य।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: August 13, 2020 9:53 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर।

मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (MCI) ने पाक के कब्जे वाले जम्मू-कश्मीर और लद्दाख से मेडिकल की डिग्री हासिल करने वाले लोगों के भारत में प्रैक्टिस करने पर रोक लगा दी है। काउंसिल ने बुधवार को एक नोटिस जारी कर कहा कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के केंद्र शासित प्रदेश भारत का एक अभिन्न अंग हैं। पाकिस्तान ने इन क्षेत्रों के एक हिस्से पर अवैध रूप से कब्जा किया है। इसीलिए PoK स्थित जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में स्थित किसी मेडिकल संस्थान को आईएमसी के 1956 के एक्ट के तहत मान्यता की जरूरत पड़ेगी। हमारी तरफ से पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू-कश्मीर में ऐसी कोई भी मान्यता नहीं दी गई है।

भारत में मेडिकल एजुकेशन संबंधी मानकों को देखने वाली संस्था एमसीआई ने आगे कहा, “इसलिए PoK के मेडिकल कॉलेजों से हासिल की गई कोई भी क्वालिफिकेशन भारत में रजिस्ट्रेशन नहीं पा सकती।”

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अफसर ने कहा, “यह कदम ऐसे समय में उठाया गया है, जब पाक के कब्जे वाले कश्मीर के एक मेडिकल कॉलेज से डिग्री हासिल करने वाले व्यक्ति ने जम्मू-कश्मीर के मेडिकल काउंसिल में रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन दिया। जांच में पाया गया कि जिस मेडिकल कॉलेज से उसने डिग्री हासिल की, उसे कोई मान्यता नहीं मिली है। इसके बाद ही स्वास्थ्य मंत्रालय, गृह मंत्रालय और विदेश मंत्रालय के अधिकारियों की इस मामले पर बैठक हुई।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोर्ट के आदेश को किनारे रख भाजपायी पूर्व डिप्टी सीएम नए घर में हुए शिफ्ट, सेना के गोला-बारूद डिपो से 600 गज है दूर
2 केरल में अगस्त-सितंबर में रोजाना कोरोना वायरस के 10-20 हजार मामले आ सकते हैं- स्वास्थ्य मंत्री
3 परामर्शः ये बातें, आपकी सफलता की बुनियाद बनेंगी
ये पढ़ा क्या?
X