ताज़ा खबर
 

छापेमारी पर बोले चिदंबरम, सरकार मेरे परिवार के खिलाफ कर रही दुर्भावनापूर्ण हमले

आयकर विभाग और प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों ने कांग्रेस नेता कार्ति चिदंबरम के व्यावसायिक सहयोगियों के ‘कुछ स्थानों’ पर मंगलवार को छापे मारे..

Author चेन्नई/दिल्ली | Updated: December 2, 2015 9:20 AM
पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम। (Express photo by Prem Nath Pandey 25 may15)

आयकर विभाग और प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों ने कांग्रेस नेता कार्ति चिदंबरम के व्यावसायिक सहयोगियों के ‘कुछ स्थानों’ पर मंगलवार को छापे मारे। कार्ति पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम के बेटे हैं। आयकर जांच विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘कुछ छापेमारियां इस समय चल रही हैंं।’ इस छापे को लेकर चिदंबरम ने आरोप लगाया कि सरकार उनके परिवार के खिलाफ दुर्भावनापूर्ण हमले कर रही है। उन्होंने सरकार को सलाह दी कि अगर वह उन्हें निशाना बनाना चाहती है तो उनके बेटे कार्ति के दोस्तों को परेशान करने की बजाय उसे सीधे सीधे ऐसा करना चाहिए।

अधिकारी ने यह बताने से इनकार कर दिया कि विभाग कहां पर छापेमारी कर रहा है लेकिन सूत्रों ने कहा कि इन परिसरों पर मंगलवार को छापेमारी हुई। सूत्रों ने कहा कि एक निजी नेत्र रोग क्लीनिक का चेन चलाने वाली कंपनी पर दो एजंसियों ने छापेमारी की, जिसमें कार्ति चिदंबरम की कथित तौर पर हिस्सेदारी है। उन्होंने कहा कि इन कंपनियों द्वारा संदिग्ध कर चोरी के आरोपों में आयकर ने कार्रवाई की जबकि ईडी ने विदेशी मुद्रा प्रबंधन कानून (फेमा) के प्रावधानों के तहत जांच के सिलसिले में छापेमारी की। कई बार प्रयास करने के बावजूद कार्ति चिदंबरम से संपर्क नहीं हो सका।

प्रवर्तन निदेशालय ने अगस्त में दो कंपनियां के निदेशकों को धनशोधन के सिलसिले में समन जारी किया था जिससे कार्ति जुड़े हुए थे। निदेशालय एयरसेल-मैक्सिस मामले में हवाला की जांच कर रहा है। सूत्रों ने कहा कि एजंसी ने जांच में पाया कि कंपनी से एयरसेल टेलीवेंचर को 26 लाख रुपए भेजे गए हैं जिसके बाद कंपनी के रणनीतिकारों को समन भेजा गया। एयरसेल-मैक्सिस सौदे की जांच ईडी और सीबीआइ दोनों कर रहे हैं और मामला टू जी घोटाले की जांच से जुड़ा हुआ है।

दिल्ली में कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने मंगलवार को पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के बेटे और कांग्रेस नेता कार्ति चिदंबरम के कारोबारी सहयोगियों के कुछ ठिकानों पर आयकर विभाग और प्रवर्तन निदेशालय के छापों के पीछे राजनीतिक बदले का आरोप लगाया। उधर, चिदंबरम ने भी आरोप लगाया कि सरकार उनके परिवार के खिलाफ दुर्भावनापूर्ण हमले कर रही है। उन्होंने सरकार को सलाह दी कि अगर वह उन्हें निशाना बनाना चाहती है तो उनके बेटे कार्ति के दोस्तों को परेशान करने की बजाय उसे सीधे-सीधे ऐसा करना चाहिए।

उधर, पूर्व सूचना और प्रसारण मंत्री तिवारी ने कहा कि पूरी कवायद से राजनीतिक प्रतिशोध की बू आती है। यह निश्चित रूप से तमिलनाडु के चुनाव को ध्यान में रखते हुए की गई है। उन्होंने आरोप लगाया कि कार्रवाई होने से तीन दिन पहले ही भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने टीवी पर इसका बखान किया था। इसलिए यह समझना कोई रॉकेट विज्ञान नहीं है कि ईडी की कार्रवाई किसी के निर्देश पर की गई है।

कीर्ति के दोस्तों के कुछ परिसरों पर आयकर और प्रवर्तन निदेशालय के छापों की खबरों के बाद चिदंबरम ने एक बयान में कहा कि अगर सरकार मुझे निशाना बनाना चाहती है तो उन्हें सीधे सीधे ऐसा करना चाहिए, मेरे बेटे के दोस्तों को परेशान नहीं करना चाहिए। जो अपने काम धंधे कर रहे हैं और जिनका राजनीति से कुछ लेना-देना नहीं है। मेरा परिवार और मैं सरकार द्वारा किए जाने वाले दुर्भावनापूर्ण हमलों का सामना करने के लिए एकदम तैयार हैं।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने कहा कि वे यात्रा कर रहे थे और उन्हें चेन्नई में कुछ प्रतिष्ठानों, जिन्हें उनके पुत्र कार्ति से जोड़ा जा रहा है पर छापेमारी की खबर मिली। हमने यह बार-बार स्पष्ट कर दिया है कि मेरे परिवार के किसी व्यक्ति के उन फर्मों में पूंजी या आर्थिक हित नहीं है, जिन्हें निशाना बनाया जा रहा है। वे ऐसी कंपनियां हैं, जिन्हें पेशेवर तरीके से चलाया जा रहा है और वे अधिकारियों के पूछे जाने वाले किसी भी सवाल का जवाब देने में सक्षम हैं। मैं उन्हें अपने बेटे से जोड़े जाने और इस आधार पर उन्हें परेशान किए जाने के प्रयास की भर्त्सना करता हूं।

बेटे कार्ति के व्यावसायी साथियों के यहां छापे से पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम नाराज

मुझे बनाओ निशाना: पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम ने आरोप लगाया कि सरकार उनके परिवार के खिलाफ दुर्भावनापूर्ण हमले कर रही है। उन्होंने सरकार को सलाह दी कि अगर वह उन्हें निशाना बनाना चाहती है तो उनके बेटे कार्ति के दोस्तों को परेशान करने की बजाय उसे सीधे-सीधे ऐसा करना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories