ताज़ा खबर
 

DMK नेता स्टालिन का पीएम मोदी पर हमला, कहा – इंडिया को ‘हिंडिया’ मत बनाओ

द्रविड मुन्नेतरा काजगम (DMK) के नेता एम.के. स्टालिन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला।

छात्रों ने पाकिस्तान को मुहतोड़ जवाब देने का अनुरोध करते हुए एक किलोमीटर लंबी चिठ्ठी लिखकर पीएम मोदी को भेजी है। (PTI)

द्रविड मुन्नेतरा काजगम (DMK) के नेता एम.के. स्टालिन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला। स्टालिन ने मोदी पर हिंदी थोपने का आरोप लगाया। स्टालिन ने कहा कि ऐसा करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संविधान और गैर हिंदी भाषी लोगों के अधिकारों का हनन कर रहे हैं। स्टालिन ने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक वीडियो पोस्ट करके ये सब बातें की। स्टालिन ने वीडियो में कहा है कि बीजेपी सरकार देश की अखण्ता को खत्म करने की कोशिश कर रही है। वीडियो में स्टालिन कहते हैं, ‘बीजेपी सरकार ने राष्ट्रपति से इजाजत लेकर एयरपोर्ट्स पर हिंदी में अनाउंसमेंट करवानी शुरू कर दी है, प्रेस न्यूज और विज्ञापनों भी हिंदी में दिए जाने लगे हैं, देश भर के सभी CBSE स्कूलों में भी हिंदी को जरूरी बनाया जा रहा है।’

स्टालिन ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि वे सभी स्कीम्स का नाम भी हिंदी या फिर संस्कृत में रखते हैं जिसको बाद में किसी और भाषा में अनुवाद करवाना होता है। स्टालिन ने नेशनल हाईवे मामले का भी जिक्र किया जिसका हिंदी में नाम लिखने पर हंगामा हुआ था। उसपर पहले इंग्लिश में नाम लिखा हुआ था।

स्टालिन ने कहा, ‘प्राइमरी स्कूल से लेकर संसद तक, नागरिकों पर हिंदी को थोपा जा रहा है। बीजेपी सरकार देश के गैर हिंदी भाषी लोगों को धोखा दे रही है जिसमें हमारी आने वाली पीढ़ी भी शामिल है।’ स्टालिन ने कहा कि ऐसा करके केंद्र सरकार संविधान का उल्लंघन कर रही है जिसमें सभी नागरिकों को बराबर अधिकार दिए गए हैं।

स्टालिन ने कहा, ‘संविधान के आठवीं अनुसूची के मुताबिक, भारत की सभी भाषाओं जिसमें तमिल भी शामिल है उसको आधिकारिक भाषा बताया गया है।’ स्टालिन ने आगे कहा कि वह DMK और सभी गैर हिंदी भाषी लोगों की तरफ से इसका विरोध करते हैं।

मोदी सरकार को चेतावनी देते हुए स्टालिन ने कहा कि वे इंडिया को ‘हिंडिया’ बनाने की कोशिश ना करें वर्ना हिंदी विरोधी नई ताकतों का उदय होगा।

देखिए संबंधित वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App