तेज प्रताप के बगावती तेवर से लालू परिवार की कलह आई सामने, बिना आशीर्वाद लिए निकले मां के घर के सामने से

सोमवार को निकाली गई जनशक्ति यात्रा के लिए तेजप्रताप यादव ने बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता व अपने भाई तेजस्वी यादव को भी न्योता दिया था। तेजप्रताप यादव ने कहा था कि वो कार्यक्रम में अपने अर्जुन को भी बुला रहे हैं। वे आएं उनका इंतजार होगा।

बीते कुछ दिनों से तेज प्रताप यादव और तेजस्वी यादव के बीच के रिश्ते तल्ख़ होते जा रहे हैं। सोमवार को अपनी पदयात्रा से पहले तेजप्रताप यादव अपनी मां राबड़ी देवी का आशीर्वाद लेने भी नहीं पहुंचे। (फोटो: एक्सप्रेस फोटो/ एएनआई)

पिछले कुछ दिनों से राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के दोनों बेटों तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव के बीच के रिश्ते तल्ख़ होते जा रहे हैं। तेज प्रताप यादव के बगावती के तेवर की वजह से लालू परिवार की कलह सोमवार को उस समय खुलकर सामने आ गई। जब तेजप्रताप जेपी जयंती पर पदयात्रा निकालने से पहले अपनी मां राबड़ी देवी के आवास के सामने से निकले, लेकिन उन्होंने अपनी मां का आशीर्वाद नहीं लिया।

दरअसल सोमवार को राजद से हसनपुर विधायक तेज प्रताप यादव ने अपने संगठन छात्र जनशक्ति परिषद की ओर से लोकनायक जय प्रकाश नारायण की जयंती पर जनशक्ति यात्रा की शुरुआत की। यात्रा की शुरुआत से पहले वे गांधी मैदान में लगी जय प्रकाश नारायण की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने पहुंचे। इस दौरान वे अपनी मां राबड़ी देवी के सरकारी आवास के सामने से निकले। लेकिन वे मां से बिना मिले ही अपनी यात्रा पर निकल गए।

कयास लगाए जा रहे थे कि तेजप्रताप यादव पदयात्रा से पहले अपनी मां का आशीर्वाद लेंगे लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। दरअसल काफी दिनों तक दिल्ली में रहने के बाद राबड़ी देवी पटना लौटी। इसके बाद वे रविवार को तेजप्रताप से मिलने उनके आवास पर भी गईं लेकिन दोनों के बीच मुलाक़ात नहीं हो सकी। राबड़ी देवी बाद में काफी देर तक इंतजार करने के बाद वापस अपने आवास पर लौट आईं। उनके वापस लौटने के बाद तेज प्रताप यादव अपने आवास पर गए।

सोमवार को निकाली गई जनशक्ति यात्रा के लिए तेजप्रताप यादव ने बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता व अपने भाई तेजस्वी यादव को भी न्योता दिया था। तेजप्रताप यादव ने कहा था कि वो कार्यक्रम में अपने अर्जुन को भी बुला रहे हैं। वे आएं उनका इंतजार होगा। हालांकि तेजस्वी यादव इस कार्यक्रम में नहीं पहुंचे। तेज प्रताप यादव के इस कार्यक्रम को उनके भाई और परिवार से मनमुटाव को जोड़कर देखा जा रहा है।

इससे पहले तारापुर विधानसभा सीट पर होने जा रहे उपचुनाव में तेजप्रताप यादव के संगठन छात्र जनशक्ति परिषद समर्थित उम्मीदवार संजय यादव द्वारा नामांकन वापस होने पर उनका गुस्सा अपनी पार्टी राजद पर फूट पड़ा था। तेजप्रताप यादव ने इशारों इशारों में तेजस्वी यादव और उनके सलाहकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि मेरे लिए चुनाव में आदरणीय तेजप्रताप यादव जी प्रचार करेंगें-संजय यादव, जनता के लिए संजय यादव जी ने अपनी उम्मीदवारी वापिस ली-पार्टी, ना मैंने कुछ कहा ना लिखा तो इसमें मेरा क्या रोल था या है? हरियाणवी स्क्रिप्‍ट राईटर तुम ये फालतू की सी ग्रेड कहानी कहीं और लिखना। बिहारी सब समझतें हैं।  

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट