ऑनलाइन पढ़ाई पर खुलासाः ढाई करोड़ से ज्यादा बच्चों के पास नहीं डिजिटल डिवाइस, इनमें 1.43 करोड़ बिहार के

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने लोकसभा में अपने लिखित जवाब में बताया कि सबसे खराब स्थिति बिहार की है। यहां 1.43 करोड़ छात्रों के पास डिजिटल डिवाइस नहीं है। झारखंड के मामले में ये आंकड़ा 35.32 लाख है।

covid 19
सांकेतिक फोटो।

कोरोना ने एजुकेशन सिस्टम को पूरी तरह से बदल कर रख दिया है। एक साल से अधिक हो गए, बच्चों ने स्कूल नहीं देखा है। डिजिटल डिवाइस ही पढ़ाई का एकमात्र जरिया है, लेकिन ऐसे में चौकाने वाला सच ये है कि देश के 26 राज्यों के 2.69 करोड़ स्कूली छात्रों के पास लैपटॉप या मोबाइल हैं ही नहीं।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने लोकसभा में अपने लिखित जवाब में बताया कि सबसे खराब स्थिति बिहार की है। यहां 1.43 करोड़ छात्रों के पास डिजिटल डिवाइस नहीं है। झारखंड के मामले में ये आंकड़ा 35.32 लाख है। जबकि कर्नाटक में 31.31 लाख, असम में 31.06 लाख, उत्तराखंड में 21 लाख छात्रों के पास डिजिटल डिवाइस नहीं हैं। खास बात है कि इसमें पांच राज्यों के आंकड़े शामिल ही नहीं हैं।

गौरतलब है कि पहले बच्चों को मोबाइल से दूर रखने की नसीहत दी जाती थी, वहीं अब मोबाइल या लैपटॉप रखना अनिवार्य हो गया है। लेकिन जब स्कूल खुल नहीं पा रहे तब कोई ऑनलाइन सुविधायुक्त है तो कोई इससे वंचित है। स्कूलों को समझ में नहीं आ रहा है कि ऐसी स्थिति में वे छात्रों को कैसे पढ़ाएं।

हजारों बच्चे ऐसे हैं जिनके स्कूल में ऑनलाइन क्लास तो चल रही है, लेकिन वे या तो पढ़ाई नहीं कर पा रहे हैं या कर भी रहे हैं तो उसका समुचित फायदा नहीं मिल पा रहा है। कहीं इंटरनेट की समस्या तो किसी के पास मोबाइल व लैपटॉप नहीं। लेकिन अभी ऑनलाइन क्लास का कोई और दूसरा विकल्प भी नहीं है। लेकिन तब क्या करें जब एक तरफ स्कूल खुलने की स्थिति में नहीं तो दूसरी तरफ छात्रों के पास जरूरी उपकरण नहीं।

डिजिटल डिवाइस के मामले में स्थिति कितनी खराब है कि अरुणाचल प्रदेश, गोवा, मणिपुर, महाराष्ट्र व यूपी के आंकड़े सरकार तक पहुंच ही नहीं सके। जबकि कुछ राज्यों में डिवाइस से महरूम छात्रों का केवल प्रतिशत ही बताया गया है। दिल्ली (4%), जम्मू-कश्मीर(70%) , छत्तीसगढ़ (28.27%), पंजाब 42%), एमपी (70%) छात्रों के पास डिवाइस नहीं होने की बात लोकसभा को दिए जवाब में कही गई है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट