ताज़ा खबर
 

लोस चुनाव 2019 में भाजपा को हराने के लिए नीतीश के साथ काम करने को तैयार: दिग्विजय

दिग्विजय सिंह ने कहा, ‘‘हम कई राज्यों में भाजपा को सत्ता में आने से रोकने में सफल रहे हैं और लोगों को यह समझने में थोड़ा समय लगा कि मोदी और भाजपा ने झूठे वायदे किए थे।’’

Author हैदराबाद | April 13, 2016 10:00 PM
कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह। (पीटीआई फाइल फोटो)

वर्ष 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों में भाजपा को हराने के लिए पार्टियों के बीच ‘सबसे बड़ी संभावित एकता’ के नीतीश कुमार के आह्वान पर सकारात्मक प्रतिक्रिया देते हुए कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने कहा कि उनकी पार्टी राष्ट्रीय स्तर पर जदयू के नवनिर्वाचित अध्यक्ष के साथ मिलकर काम करने को तैयार है। यह पूछे जाने पर कि क्या कांग्रेस राष्ट्रीय स्तर पर नीतीश के साथ काम करने को तैयार है, सिंह ने कहा, ‘‘ नि:संदेह हां।’’

नीतीश कुमार ने 2019 के लोकसभा चुनावों के बाद भाजपा को सत्ता से दूर रखने के लिए कांग्रेस और वामदल सहित पार्टियों के बीच ‘सबसे बड़ी संभावित एकता’ का आह्वान सोमवार को किया था। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री सिंह ने कहा, ‘‘हम चाहते हैं कि यह देश धर्मनिरपेक्ष रहे, पूरी आबादी के लिए एक तरह का जवाबदेह और जिम्मेदार रहे न कि केवल एक वर्ग के लिए हो। इसलिए, मैं समझता हूं कि हम उन सभी के साथ काम करने को तैयार हैं जो इस देश में एकता चाहते हैं, जो भारतीय संविधान में विश्वास रखते हैं और जिनकी राजनीति समावेशी हो न कि विशेष वर्ग के लिए हो।’’

सिंह ने कहा कि कांग्रेस की शुरुआत से ही भाजपा से लड़ाई रही है। उन्होंने कहा, ‘‘हमें बहुत खुशी है कि कभी भाजपा के साथ सत्ता में साझीदार रहे नीतीश कुमार को अब यह एहसास हो गया है। हमें बहुत प्रसन्नता है कि अंतत: सभी राजनीतिक दल करीब आ रहे हैं और उन्होंने कांग्रेस के इस रुख को स्वीकार कर लिया है कि हमारा भाजपा जैसी सांप्रदायिक ताकतों से कोई लेनादेना नहीं है।’’

यह पूछे जाने पर कि क्या नीतीश भाजपा और कांग्रेस के एक विकल्प के तौर पर उभरेंगे, सिंह ने कहा, ‘‘हर व्यक्ति के पास यह चाहत रखने का अधिकार है कि उसे एक राष्ट्रीय नेता के तौर पर स्वीकार किया जाए और इस पर निर्णय करना लोगों पर निर्भर है।’’ 2014 के लोकसभा चुनावों में बुरी तरह हारने वाली कांग्रेस 22 महीने बाद भी खुद को पुनर्जीवित करने में नाकाम रही है, इस बात से सिंह ने सहमति नहीं जताई।

उन्होंने कहा, ‘‘हम कई राज्यों में भाजपा को सत्ता में आने से रोकने में सफल रहे हैं और लोगों को यह समझने में थोड़ा समय लगा कि मोदी और भाजपा ने झूठे वायदे किए थे।’’

सिंह ने पश्चिम बंगाल में वामदल के साथ चुनावी गठबंधन करने के कांग्रेस के निर्णय को सही ठहराया, जबकि पार्टी केरल में वामदल के खिलाफ चुनाव लड़ रही है। उन्होंने कहा कि समान विचार वाली पार्टियों के साथ गठबंधन करना क्षेत्रीय नेतृत्व का सवाल है। ‘‘इसलिए ऐसा कोई विरोधाभास नहीं है। पश्चिम बंगाल में जिस तरह से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आचरण अपनाया, उसे देखते हुए कांग्रेस को व्यरवहारिक विकल्प तलाशना पड़ा और वामदल पश्चिम बंगाल में एक व्यवहारिक विकल्प है।’’

राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष का पद संभालने में ‘विलंब’ के बारे में सिंह ने कहा, ‘‘ राहुल गांधी का कोई विरोध नहीं कर रहा है। यह इस बात पर निर्भर करता है कि इस संबंध में निर्णय कब किया जाता है। यह निर्णय कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा किया जाएगा।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App