ताज़ा खबर
 

आसमान में तेल के दाम के बीच धर्मेंद्र प्रधान ने संभाला शिक्षा मंत्री का कार्यभार, लोग बोले- 100 की जगह 500 ₹ फीस देने को रहें तैयार

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति के साथ भारत की शिक्षा प्रणाली ने एक बड़ी छलांग लगाई है।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने अपना कार्यभार संभाला। (एएनआई)।

आज केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने अपना पदभार ग्रहण किया। इससे पहले प्रधान केंद्र में पेट्रोलियम मंत्री के तौर पर कार्य कर रहे थे। सोशल मीडिया पर यूजर्स ने अपने ही अंदाज में इस मामले पर रिएक्ट किया। आदित्य गुप्ता(@researchAditya) ने लिखा, ‘100 की जगह अब 500 फीस देने के लिए तैयार रहो।’ उपेंद्र चौधरी (@Ch_Upendra) ने लिखा, ‘पेट्रोलियम मंत्रालय में शतक लगाने के बाद महाशय अब शिक्षा की जिम्मेदारी संभालेंगे।’

दीपक पंडित (@DeepakP85378842) ने लिखा, ‘जब देश के लोग महसूस करने लगेंगे कि उनकी पढ़ाई उनके काम आएगी, तब आपका शिक्षा मंत्री होना सफल माना जायेगा। आतंकियों का महिमामंडन भी इतिहास के पन्नो से उखाड़ फेकिये, शिक्षा के क्षेत्र में भ्रष्टाचार न हो, उचित कदम उठाइये। अन्यथा हो सकता है, आप भी निशंक?’ मालूम हो कि इससे पहले नए केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बृहस्पतिवार को कहा था कि नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति के साथ भारत की शिक्षा प्रणाली ने एक बड़ी छलांग लगाई है।

बुधवार को हुए केंद्रीय मंत्रिपरिषद विस्तार एवं फेरबदल में प्रधान को शिक्षा मंत्रालय का प्रभार दिया गया था। राजकुमार रंजन सिंह, सुभाष शेखर और अन्नपूर्णा देवी को शिक्षा राज्य मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया है। शिक्षा मंत्री के रूप में अपनी पहली बैठक में प्रधान ने कहा, ‘‘राष्ट्रीय शिक्षा नीति के साथ भारतीय शिक्षा प्रणाली ने एक बड़ी छलांग लगाई है। नीति का सिर्फ देश में ही नहीं, बल्कि दूसरे देशों में भी स्वागत किया गया है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘भारत को एक उचित ज्ञान संपन्न समाज की दिशा में ले जाने में हम छात्रों और युवाओं को मुख्य साझेदार बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।’’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई बैठक में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों और भारतीय विज्ञान संस्थान सहित केंद्र द्वारा वित्त पोषित तकनीकी संस्थानों के निदेशक भी शामिल हुए थे। केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बृहस्पतिवार को कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय का कार्यभार संभालते हुए कहा कि वह कौशल और रोजगार के बीच संबंध बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘हम कौशल के प्रयासों को मजबूत करने और युवाओं को भविष्य के काम के लिए तैयार करने के लिए उन्हें आवश्यक कौशल से लैस करने तथा कौशल और रोजगार के बीच संबंध बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।’’ बता दें कि राजीव चंद्रशेखर ने मंत्रालय में राज्य मंत्री के रूप में भी कार्यभार संभाला।

Next Stories
1 यह कोई आंसरशीट थोड़ी होती है, जो डिबेट पर आने से पहले से जवाब याद करेंगे- गोल-मोल बात करने वाले पैनिलिस्ट को टोकने लगे ऐंकर
2 ओवैसी भाईचारे की बात करते हैं, पर भाई वो हैं, लेकिन चारा कोई और- पैनलिस्ट का AIMIM चीफ पर तंज
3 दिल्ली हाई कोर्ट ने की समान नागरिक संहिता की वकालत, कहा- यही है सही समय
आज का राशिफल
X