ताज़ा खबर
 

वैष्णो देवी रूट में हेलीकॉप्टर सर्विस की जांच करेगा DJCA

वैष्णो देवी मंदिर बोर्ड ने जम्मू कश्मीर के कटरा क्षेत्र में कटरा-सांझीछत सेक्टर के बीच हेलिकॉप्टर सेवाओं के संचालन पर डीजीसीए से इसकी व्यापक सुरक्षा जांच कराने को कहा है,

श्रीनगर | November 26, 2015 2:33 AM

वैष्णो देवी मंदिर बोर्ड ने जम्मू कश्मीर के कटरा क्षेत्र में कटरा-सांझीछत सेक्टर के बीच हेलिकॉप्टर सेवाओं के संचालन पर डीजीसीए से इसकी व्यापक सुरक्षा जांच कराने को कहा है, जहां पिछले दिनों एक हेलिकॉप्टर हादसे में एक महिला पायलट और छह तीर्थयात्रियों की मौत हो गई थी।

सोमवार को कटरा में हेलिकॉप्टर हादसे के बाद ऐहतियाती कदम के तहत हेलिकाप्टर सेवाओं पर रोक लगाए जाने के बाद बुधवार को इसे परीक्षण उड़ानों के साथ फिर से शुरू किया जा रहा है। श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड (एसएमवीडीएसबी) ने डीजीसीए से इन सेवाओं विशेषकर रियासी जिले में व्यापक सुरक्षा जांच करने को कहा है। रियासी जिले में स्थित कटरा से हर साल करीब एक करोड़ लोग माता वैष्णो देवी गुफा के दर्शन के लिए जाते हैं।

बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘जम्मू कश्मीर के राज्यपाल एनएन वोहरा के निर्देश पर श्राइन बोर्ड के सीईओ ने डीजीसीए से कहा है कि वह कटरा-सांझीछत-कटरा सेक्टर के बीच हेलिकॉप्टर सेवाओं की व्यापक सुरक्षा जांच करे’। राज्यपाल बोर्ड के अध्यक्ष भी हैं। नागर विमानन महानिदेशालय की एक टीम ने मंगलवार को दुर्घटनास्थल का दौरा किया था और हादसे की व्यापक जांच की पहल की थी। साल 2010 निर्मित हिमालयन हेली कंपनी का निजी हेलिकॉप्टर त्रिकुटा पहाड़ियों में सांझीछत हेलीपैड से छह तीर्थयात्रियों को लेकर जा रहा था और उसी दौरान यह कटरा में नया बस अड्डा इलाके में दुर्घटनाग्रस्त हो गया।

डीजीसीए की एक अलग टीम बुधवार को कटरा पहुंची है और उसने हवाई सुरक्षा संबंधी विभिन्न नियमों की जांच शुरू कर दी, जिनमें हेलिकॉप्टरों की उड़ान भरने की क्षमता और आपरेटरों की अपनाई जाने वाली देखभाल प्रक्रिया शामिल है। श्राइन बोर्ड के अधिकारियों ने हादसे में मारे गए यात्रियों के जम्मू और दिल्ली में किए गए अंतिम संस्कार में भाग लिया।
बोर्ड के अधिकारियों ने हादसे में मारी गई महिला पायलट के परिजन से भी मुलाकात की और उनके शव को दिल्ली ले जाने का इंतजाम किया। इस बीच, पवित्र गुफा के लिए यात्रा सामान्य रूप से जारी है और काफी बड़ी संख्या में यात्रियों को पैदल, खच्चरों और पालकियों में सवार होकर यात्रा करते देखा जा सकता है।

जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री निर्मल सिंह ने मंगलवार को कहा था, ‘शुरुआती सूचना के मुताबिक, एक पक्षी हेलिकॉप्टर के पिछले हिस्से में फंस गया था जिससे उसके पंखे ने घूमना बंद कर दिया। नीचे घनी आबादी वाला क्षेत्र होने के मद्देनजर महिला पायलट ने जमीन पर लोगों को हताहत होने से बचाने के लिए सुरक्षित लैंडिंग के लिए नए बस अड्डे के करीब एक स्थान को चुना। उन्होंने कहा था, ‘जिस समय हेलिकॉप्टर उतर रहा था, उसके रोटर बिजली के तारों में फंस गए और उसमें आग लग गई’। जम्मू कश्मीर सरकार ने मामले की जांच के लिए अलग से न्यायिक जांच के आदेश दिए थे।

Next Stories
1 वॉल-मार्ट के सीनियर ऑफीसर भ्रष्टाचार को लेकर सीवीसी की जांच के घेरे में
2 धड़ल्ले से जाली नोट का रैकेट करने का पर्दाफाश
3 कीमतों पर अंकुश लगाने के लिए दालों का ज्यादा आयात करेगी सरकार
ये पढ़ा क्या?
X