ताज़ा खबर
 

रिकॉर्ड वैक्सिनेशन के छपे पोस्टर-बैनर, फिर भी गिर गया टीकाकरण का आंकड़ा

सोमवार को देश में कोरोना टीकाकरण अभियान के तीसरे फेज के तहत 88 लाख वैक्सीन डोज लगाई गईं, जबकि मंगलवार रात 10 बजे तक देशभर में सिर्फ 53 लाख 40 हजार डोज ही लगाई जा सकीं।

Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: June 23, 2021 7:59 AM
भारत में सोमवार को हुआ था रिकॉर्ड वैक्सिनेशन। (एक्सप्रेस फोटो- Amit Chakravarty)

भारत में कोरोना की तीसरी लहर से पहले केंद्र सरकार अब तेजी से लोगों का वैक्सिनेशन करने में जुटी है। योग दिवस के दिन ही देश में बड़े स्तर पर टीकाकरण अभियान की शुरुआत हुई थी। इस दिन 88 लाख वैक्सीन डोज लगने के साथ ही भारत में नया रिकॉर्ड बना था। उम्मीद की जा रही थी कि वैक्सिनेशन की यह गति आगे भी जारी रहेगी। हालांकि, मंगलवार रात 10 बजे तक देशभर में सिर्फ 53 लाख 40 हजार वैक्सीन डोज ही लगाई जा सकीं।

18-44 आयु वर्ग में टीके का उत्साह, वैक्सिनेशन का आंकड़ा 29 करोड़ के पार: एक और महत्वपूर्ण उपलब्धि के तौर पर भारत में कोविड-19 का कुल टीकाकरण कवरेज 29 करोड़ का आंकड़ा पार कर गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, 18-44 वर्ष की आयु वर्ग में मंगलवार को टीके की 32,81,562 से अधिक डोज पहली खुराक के रूप में और 71,655 दूसरी खुराक के रूप में दी गई। टीकाकरण अभियान के तीसरे चरण की शुरुआत के बाद से कुल मिलाकर, 37 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में इस आयु वर्ग के 6,55,38,687 से अधिक लोगों ने अपनी पहली खुराक प्राप्त की है और 14,24,612 से अधिक लोगों ने अपनी दूसरी खुराक प्राप्त की है।

मंगलवार को क्यों गिरा वैक्सिनेशन का आंकड़ा?: स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने बताया है कि सोमवार के लिए देश में वैक्सीनेशन की जबरदस्त तौर पर तैयारी की गई थी। इसके लिए केंद्र और राज्य सरकारों ने हर स्तर पर तालमेल बिठाया। गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने सोमवार का ही प्रदर्शन ही आगे भी जारी रखने की बात कही थी। इसके लिए बकायदा पोस्टर-बैनर भी लगाए गए। इसके बावजूद मंगलवार को टीकाकरण का आंकड़ा कम रहने के पीछे कुछ बड़ी आबादी वाले राज्यों का ढीला रवैया जिम्मेदार माना जा रहा है।

ताजा आंकड़ों के मुताबिक, मंगलवार को कोरोना टीकाकरण का आंकड़ा राज्यों के हिसाब से काफी अलग-अलग रहा। जहां महाराष्ट्र में इस दिन 5.5 लाख वैक्सीन डोज लगीं। वहीं, यूपी में कोरोना की 7 लाख डोज लगाई गईं। लेकिन छत्तीसगढ़, दिल्ली, झारखंड और आंध्र प्रदेश जैसे बड़ी आबादी वाले राज्यों में वैक्सीनेशन की रफ्तार धीमी रही। इन सभी राज्यों में एक लाख से कम या थोड़ा ज्यादा डोज ही लग पाईं। उधर केरल और असम जैसे राज्यों में तो कोरोना टीकाकरण की रफ्तार जारी है।

बता दें कि 21 जून से केंद्र सरकार ने टीकाकरण की जिम्मेदारी अपने हाथों में ली थी। केंद्र सरकार ने कहा कि वह इसे खुद खरीदकर राज्य सरकार को देगी, जबकि पहले राज्यों को भी टीका खरीदने के लिए कहा गया था। सोमवार को टीकाकरण अभियान काफी तेजी से चला और पहले ही दिन देश ने टीका लगाने का रिकॉर्ड बना लिया। इस दिन कुल 88 लाख वैक्सीन की डोज लगाई गईं।

Next Stories
1 2024 में मोदी के खिलाफ चुनौती बनेंगी ममता? गुपकार का भी खुले शब्दों में समर्थन
2 बाजार भाव से 60 करोड़ ऊपर
3 जब IAS अधिकारियों पर बोले थे कुमार विश्वास, परेशान होते हैं तो पांचवें माले पर बैठ धान की कीमत तय करने लगते हैं
यह पढ़ा क्या?
X