पश्चिम बंगाल में अच्छे प्रदर्शन के बावजूद राज्यसभा में BJP को होगा सिर्फ एक सीट का फायदा

ब्रोकरेज कोटक इंस्टीट्यूशनल इक्विटीज ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा, कि अगले दौर के 2022 में होने वाले राज्यसभा चुनावों में भाजपा को कोई खास फायदा नहीं होगा क्योंकि आंध्र प्रदेश और राजस्थान से उसकी सीटें कम होंगी।

West Bengal, Bengal Election, BJP, Rajya Sabha, PM Modiपीएम नरेंद्र मोदी (फोटो- पीटीआई)

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में अच्छे प्रदर्शन के बावजूद राज्यसभा में केंद्र की सत्ताधारी भाजपा को फिलहाल कोई खास लाभ होता नहीं दिख रहा है। एक रिपोर्ट में सोमवार को दावा किया गया कि अगले साल तक उच्च सदन में भाजपा की सदस्य संख्या में एक सीट का इजाफा होगा और उसकी कुल संख्या 96 हो जाएगी। वर्तमान में राज्यसभा में भाजपा के 95 सदस्य हैं। सदन में अभी 240 सदस्य हैं।

समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक- वर्ष 2022 में लगभग 78 सदस्यों का कार्यकाल पूरा हो जाएगा। इनमें वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, रेल मंत्री पीयूष गोयल, अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी चिदंबरम, आनंद शर्मा और कपिल सिब्बल शामिल हैं। पांच राज्यों के रविवार को आए नतीजों में में से तीन राज्यों में सत्तारूढ़ दलों ने ही सत्ता में वापसी की।

ब्रोकरेज कोटक इंस्टीट्यूशनल इक्विटीज ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा, कि अगले दौर के 2022 में होने वाले राज्यसभा चुनावों में भाजपा को कोई खास फायदा नहीं होगा क्योंकि आंध्र प्रदेश और राजस्थान से उसकी सीटें कम होंगी। उत्तर प्रदेश में फायदे के बावजूद पश्चिम बंगाल से उसकी सीट में कोई इजाफा नहीं हुआ है। पश्चिम बंगाल में 292 सीटों पर हुए चुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने 213 सीटों पर कब्जा जमाया जबकि भाजपा विधानसभा में अपनी सदस्य संख्या तीन से 77 तक पहुंचाने में सफल रही।

तमिलनाडु में द्रमुक और कांग्रेस सहित अन्य दलों के गठबंधन 234 में से 155 सीटें जीतकर अन्नाद्रमुक को सत्ता से बेदखल किया। केरल में वाम मोर्चा एलडीएफ ने फिर से सत्ता में वापसी की। उसने राज्य की 140 में से 97 विधानसभा सीटों पर जीत दर्ज की। भाजपा असम में अपनी सत्ता बचाने में सफल रही। राज्य की 126 में 74 सीटों पर उसने जीत दर्ज की। रिपोर्ट में कहा गया कि 2022 के द्विवार्षिक चुनाव के बाद राज्यसभा में भाजपा के सदस्यों की संख्या 96 होगी।

रिपोर्ट के मुताबिक कांग्रेस की सदस्य संख्या 35 से 38 और द्रमुक की सात से नौ हो जाएगी। अन्नाद्रमुक के सदस्यों की संख्या पांच से तीन रह जाएगी। कोटक ने कहा- भारी संसाधन और समय झोंकने के बाद भी पश्चिम बंगाल में आशा के अनुरूप प्रदर्शन ना होने पर भाजपा का क्या रुख रहता है, यह देखना दिलचस्प होगा। अगले 12 महीनों में कई राज्यों में विधानसभा के चुनाव होने हैं। इनमें गुजरात और उत्तर प्रदेश शामिल है। यूपी में 2022 में विधानसभा चुनाव प्रस्तावित है।

Next Stories
1 कोरोनाः नहीं जानता कि कौन चला रहा देश- ऑक्सीजन की कमी से होने वाली मौतों पर बोले बत्रा अस्पताल के चीफ
2 UP Pachayat Elections: जिस पर था दंगा भड़काने और पुलिसकर्मी की हत्या आरोप, वही जीत गया चुनाव
3 अप्रैल के आखिर तक टीकाकरण रेंगने लगा, करीब एक करोड़ कोरोना रोधी टीके कम लगे
ये पढ़ा क्या?
X