ताज़ा खबर
 

देवबंद ने गर्भपात के खिलाफ जारी किया एक और फतवा

देश में मुसलमानों में प्रति हजार लड़कों पर लड़कियों का अनुपात वर्ष 2001 की जनगणना में 950 था, जो 2011 में घटकर 943 रह गया है।

Author लखनऊ | June 8, 2016 7:07 PM
दारुल उलूम देवबंद के फतवा विभाग ‘दारुल इफ्ता’ द्वारा गत छह जून को दिये गये फतवे में कहा गया है कि इस्लाम की शुरुआत से पहले लोग अपनी बच्चियों को जिंदा दफन कर दिया करते थे।

मुसलमानों में बिगड़ते लिंगानुपात के बीच देश के प्रमुख इस्लामी शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद ने गर्भपात के खिलाफ एक और फतवा जारी किया है। इदारे का कहना है कि इस्लाम की नजर में गर्भपात कराना कत्ल करने के बराबर बहुत बड़ा गुनाह है।

दारुल उलूम देवबंद के फतवा विभाग ‘दारुल इफ्ता’ द्वारा गत छह जून को दिये गये फतवे में कहा गया है कि इस्लाम की शुरुआत से पहले लोग अपनी बच्चियों को जिंदा दफन कर दिया करते थे। कुरान शरीफ में इसकी सख्त निन्दा की गयी है। इस्लाम में गर्भपात करवाना अवैध और हराम है। फतवे में कहा गया है कि इस्लाम में बेटियों के साथ अच्छे बर्ताव का हुक्म दिया गया है। इस्लाम में लड़कियों के लिये किसी भी तरह के असम्मान की कोई जगह नहीं। बेटियां अल्लाह का दिया वरदान हैं और अल्लाह ने उनकी क्रद करने का हुक्म दिया है।

गौरतलब है कि देश में मुसलमानों में प्रति हजार लड़कों पर लड़कियों का अनुपात वर्ष 2001 की जनगणना में 950 था, जो 2011 में घटकर 943 रह गया है। दारुल इफ्ता से सवाल पूछा गया था कि भू्रण खासकर बालिका भू्रण को हटाने को लेकर इस्लाम का क्या नजरिया है और बेटियों के प्रति माता-पिता के क्या फर्ज हैं। साथ ही जो लोग अपनी बेटियों के साथ खराब बर्ताव करते हैं, उनके लिये इस्लाम में सजा का कोई प्रावधान है या नहीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App