यूपी में डेंगू का डंक! फरियाद सुनाने को कमिश्नर की कार के आगे लेट गई मृतका की बहन, हंगामा

केंद्र ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को पत्र लिखकर डेंगू जैसी वेक्टर जनित बीमारियों की रोकथाम और नियंत्रण गतिविधियों में तेजी लाने पर जोर दिया है।

बच्चों में डेंगू का खतरा (Source: Dreamstime)

देश के कई राज्यों में डेंगू का कहर देखने को मिल रहा है। उत्तर प्रदेश में पिछले कुछ दिनों में मरने वालों का आंकड़ा 100 के पार पहुंच गया है। पिछले 48 घंटे में 16 लोगो की जान गयी है। 11 साल की वैष्णवी कुशवाहा पांच दिनों से फिरोजाबाद मेडिकल कॉलेज में भर्ती थी जहां सोमवार को उसकी मौत हो गयी। मौत के बाद परिजनों ने जमकर हंगामा किया। वैष्णवी की बहन आगरा कमिश्नर की गाड़ी के आगे लेट गयी।

लगातार बढ़ते प्रकोप को लेकर फिरोजाबाद के सीएमओ दिनेश कुमार का कहना है कि 64 कैंपों में 48 सौ लोगों का इलाज किया जा रहा है। इसमें बुखार वाले मरीज भी शामिल हैं। जानकारों का कहना है कि जिले में तकरीबन 12 हजार लोग बुखार से बिस्तर पर पड़े हैं। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक इस बीमारी के चपेट में पूरा जिला आ चुका है। बीते 24 घंटे में यहां 4 और मरीजों की मौत हो चुकी है।

इधर केंद्र ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को पत्र लिखकर डेंगू जैसी वेक्टर जनित बीमारियों की रोकथाम और नियंत्रण गतिविधियों में तेजी लाने पर जोर दिया है। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों तथा प्रशासकों को लिखे पत्र में कहा है कि संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए कीट विज्ञान निगरानी, ​​​​स्रोत में कमी लाने संबंधी गतिविधियों और त्वरित वेक्टर नियंत्रण उपायों को क्रियान्वित किया जाना चाहिए।

भूषण ने कहा कि हाल के हफ्तों में कुछ राज्यों में कुछ इलाकों में डेंगू जैसी वेक्टर जनित बीमारियों (वीबीडी) के मामलों में वृद्धि दर्ज की गई है। उन्होंने कहा कि इन रोगों का प्रसार और संचरण पर्यावरणीय कारकों से प्रभावित होता है तथा वेक्टर प्रसार के लिए अनुकूल वातावरण के कारण मॉनसून और मॉनसून के बाद की अवधि के दौरान इनका संचरण अधिकतम होता है। बताते चलें कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में भी इस साल अबतक डेंगू के कम से कम 158 मामले आ चुके हैं। हालांकि शहर में डेंगू से अबतक कोई मौत नहीं हुई है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट