ताज़ा खबर
 

नोटबंदी: बैंक की लाइन में खड़े-खड़े महिला ने दिया बच्चे को जन्म, नाम रखा ‘खजांची नाथ’

उत्तरप्रदेश के कानपुर में एक महिला ने अपने बेटे का नाम 'खजांची नाथ' रखा है।

पंजाब नेशनल बैंक के एटीएम बाहर खड़ी लाइन। PTI Photo by Subhav Shukla (Representative Image)

उत्तरप्रदेश के कानपुर में एक महिला ने अपने बेटे का नाम ‘खजांची नाथ’ रखा है। उसने बैंक की लाइन में खड़े-खड़े बच्चे को जन्म दिया था इसलिए उसका ऐसा नाम रखा गया है। जिस महिला के बच्चे का नाम ‘खजांची नाथ’ रखा गया है उसका नाम सर्वेशा है। वह 30 साल की है और कानपुर देहात के शाहपुर डेरा में रहती है। सर्वेशा के रिश्तेदारों में से एक ने कहा, ‘मैंने ही उसका नाम खजांची नाथ रखा क्योंकि वह नोटबंदी के इस श्राप में भी जिंदा बच गया।’ खबरों के मुताबिक, सर्वेशा पिछले कई दिनों से लगातार बैंक जा रही थी और लाइन में लग रही थी लेकिन उसे पैसे नहीं मिल पा रहे थे। सर्वेशा का पति इसी साल एक एक्सीडेंट में मारा गया था। सरकार ने मुआवजे के तौर पर 2.75 लाख रुपए दिए थे। वह उन्हीं पैसों की किश्त निकालने के लिए बैंक पहुंची थी। शुक्रवार (2 दिसंबर) को लाइन में खड़े-खड़े शाम को 4 बजे के करीब उसे लेबर पेन होना शुरू हुआ। सर्वेशा दर्द से चिल्ला रही थी लेकिन वहां एम्बुलेंस नहीं आ सकती थी। इसी बीच उसने एक लड़के को जन्म दिया। बाद में पुलिस अपनी गाड़ी में बच्चे और मां को लेकर हॉस्पिटल पहुंची थी।

तब सर्वेशा की सास ने कहा था, ‘मुझे डर था कि कहीं मैं सर्वेशा को खो ना दूं। लेकिन उसने एक खूबसूरत से बच्चे को जन्म दिया। मैं अब खुश और संतुष्ट हूं।’ डॉक्टर ने बताया था कि 30 साल की सर्वेशा को फिलहाल थोड़ी कमजोरी है लेकिन उसका बेटा बिल्कुल स्वस्थ है।

गौरतलब है कि मोदी सरकार ने 8 दिसंबर को नोटबंदी का एलान किया था। बताया गया था कि 30 दिसंबर के बाद 500 और 1000 के नोट चलने बंद हो जाएंगे। साथ ही 2000 और 500 के नए नोट लाने का भी एलान किया गया था। तब से बैंकों की लाइन खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। लोग अपने पैसों को जमा करवाने और निकालने के लिए बैंक पहुंचते हैं। ऐसे में बैंक की लाइन लंबी होती चली जाती है।

इस वक्त की बाकी ताजा खबरें पढ़ने के क्लिक करें

वीडियो: हिंदू महासभा ने की पीएम मोदी को बताया हिंदू-विरोधी; नोटबंदी को बताया मोदी शासन के अंत की शुरुआत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App