ताज़ा खबर
 

फिर खराब हुई दिल्ली की आबोहवा, AQI का आंकड़ा 300 के पार

दिल्ली की हवा में पराली जलाने की हिस्सेदारी का अनुमान आज 15 फीसद रहा है। अगले दो दिनों तक सतह की हवाओं का पूर्वानुमान है और सकारात्मक रूप से एक्यूआइ को प्रभावित करने की संभावना है। इसमें अगले दो दिनों तक बहुत सुधार होने की संभावना है।

delhi pollutionप्रदूषण बढ़ने से लोग हो रहे हैं परेशान। फाइल फोटो।

प्रदूषण का स्तर एक बार फिर गहराने लगा है। दिल्ली में मध्यम दर्जे के वायु प्रदूषण ने एक बार फिर राजधानी को अपनी चपेट में लेना शुरू कर दिया है। बीते दिनों में 99 से कम स्तर तक आ चुके वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआइ) ने एक बार फिर बढ़त बनाते हुए 300 का आंकड़ा पार कर लिया।
शुक्रवार को राजधानी दिल्ली और एनसीआर में फिर से प्रदूषण में वृद्धि दिखाई दी। सुबह के समय प्रदूषण अधिक था जबकि दिन में कुछ सुधार आय क्योंकि हवा तेज हो गई। आज दिल्ली में समग्र वायु गुणवत्ता सूचकांक 310 दर्ज किया गया।

दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषित 10 स्थानों में शीर्ष पर रहा नोएडा, जहां पीएम 10 रहा 236 और पीएम 2.5 बढ़ते हुए 335 के स्तर पर पहुंच गया। ग्रेटर नोयडा 314, गुरूग्राम 324, आगरा 302, बागपत 311, बुलंदशहर व भिवंडी में 326, हिसार में 341, मुजफ्फरपुर में 346 व यमुनानगर में 329 एक्यूआइ दर्ज किया गया।

दिल्ली की समग्र वायु गुणवत्ता पूर्वानुमान के अनुसार आज की सुबह बहुत खराब श्रेणी में है। सतही हवाएं पश्चिम-दक्षिण-पूर्वी और मध्यम और मध्यम स्तर की हवा की दिशा उत्तर पछुआ है। सफर को उपग्रह से मिली जानकारी के मुताबिक पराली जलाने की संख्या में मामूली कमी आई है और आज पराली जलाने के लगभग 495 मामले दर्ज किया गया है।

दिल्ली की हवा में पराली जलाने की हिस्सेदारी का अनुमान आज 15 फीसद रहा है। अगले दो दिनों तक सतह की हवाओं का पूर्वानुमान है और सकारात्मक रूप से एक्यूआइ को प्रभावित करने की संभावना है। इसमें अगले दो दिनों तक बहुत सुधार होने की संभावना है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दिल्ली का पारा लुढ़क कर 7.5 डिग्री पर, नवंबर में दिसंबर जैसी सर्दी
2 कोरोना के साए में मनी छठ: दिल्ली में प्रतिबंध तो लोग चले एनसीआर
3 दिल्ली में 24 घंटे में कोरोना संक्रमण से 118 लोगों की मौत, 6608 नए मामले
यह पढ़ा क्या?
X