ताज़ा खबर
 

तीन मस्जिदों पर भी हमला, आग लगाई, मीनार पर लहरा दिया जय श्री राम लिखा भगवा झंडा

दंगाइयों ने मस्जिद के आस पास कम से कम चार घरों को लूटा और उन्हें आग के हवाले कर दिया। इस घटना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें एक शख्स मीनार के ऊपर चढ़कर भगवा लहराते हुए दिखाई दे रहा है।

Author , Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: February 27, 2020 10:23 AM
मंगलवार को गोकुलपुरी टायर मार्केट। (indian express photo)

उत्तर पूर्वी दिल्ली के अशोक नगर इलाके में एक मस्जिद की मीनार पर जय श्री राम लिखा भगवा झंडा लगाया गया। उस झंडे से थोड़ा नीचे एक तिरंगा भी लगाया गया। मंगलवार को, दंगाइयों ने मस्जिद में तोड़ फोड़ की और उसमें आग लगा दी। इतना ही नहीं दंगाइयों ने मस्जिद के आस पास कम से कम चार घरों को लूटा और उन्हें आग के हवाले कर दिया। इस घटना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें एक शख्स मीनार के ऊपर चढ़कर भगवा लहराते हुए दिखाई दे रहा है।

अशोक नगर में दोपहर 3 बजे के करीब दो मस्जिदों को निशाना बनाया गया। दोनों मस्जिदों के बीच एक किलोमीटर का फासला है। वहीं अशोक नगर से दो किलोमीटर दूर बृजपुरी में एक और मस्जिद को दंगाइयों ने उजाड़ दिया और आग लगा दी।

दिल्ली हिंसा: ”दूध लेने गया था, लौटा तो देखा 100-150 लोग गेट तोड़कर घर में घुसे थे, लगा दी थी आग, जिंदा जल गईं 85 साल की मां’, सईद सलमानी की आपबीती

प्रत्यक्षदर्शियों ने बुधवार को द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि मंगलवार दोपहर 12 बजे के आसपास भीड़ ने पड़ोस में हमला किया। एन के शर्मा नाम के एक स्थानीय बुजुर्ग ने बताया “पहले उन्होंने मस्जिद पर पथराव किया और फिर उसके द्वार खोल दिए, मीनारों पर चढ़ गए और झंडे लगाए और आखिर में उन्होंने इमारत को आग लगा दी। सौभाग्य से मस्जिद में और उसके आसपास रहने वाले लोगों को पहले ही वहां से हटा दिया गया था।”

दिल्ली हिंसा: ‘ऊपर से ऑर्डर आ गया रात को, अब सब शांत है’, दो दिन की भारी हिंसा के बाद ऐसे बदले दिल्ली पुलिस के बोल

दंगाइयों ने मस्जिद के सामने वाली गली के दूसरी ओर स्थित तीन मंजिला आवासीय संपत्ति को भी निशाना बनाया और आठ दुकानों को आग लगा दी। स्थानीय लोगों ने कहा कि वे दंगाइयों को पहचान नहीं सकते, क्योंकि वे सभी बाहरी लोग थे।

दोपहर के आसपास पहले दौर के हमले के बाद पुलिस ने पड़ोस के मुस्लिम निवासियों को खाली कर दिया था। प्रवीन नाम की एक निवासी ने बताया ““हमें मस्जिद पर हमला होने पर पुलिस स्टेशन ले जाया गया। शाम को भीड़ वापस आई और आभूषणों सहित हमारे सभी कीमती सामानों को लूट कर चली गई। मेरी बेटी के प्रमाण पत्र, जिसमें उसके एडमिट कार्ड भी शामिल हैं, जला दिया गया है।” प्रवीन के पति मोहम्मद राशिद ने बताया कि जिस परिसर से मस्जिद का संचालन हो रहा था, वह किराए पर था। सभी कमरे जल कर राख़ हो गए थे और उनमें से धुआं निकाल रहा था। बिस्तर, गद्दे, छत के पंखे और बाल्टियाँ, बिखरी और आधी जली हुई थीं।

दिल्ली हिंसा से जुड़ी सभी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

Next Stories
1 ‘दूध लेने गया था, लौटा तो देखा 100-150 लोग गेट तोड़कर घर में घुसे थे, लगा दी थी आग, जिंदा जल गईं 85 साल की मां’, सईद सलमानी की आपबीती
2 Delhi Violence: ‘तमंचा तान उतरवायी पैंट’, पत्रकार ने बतायी आपबीती
3 तेजस्वी संग नीतीश ने की NRC पर चर्चा, पर बीजेपी को रखा दूर, संबोधन में भी लालू यादव, मनमोहन सिंह का लिया नाम; इशारा कुछ और तो नहीं?
ये पढ़ा क्या?
X