ताज़ा खबर
 

दिल्ली दंगाः आप के ताहिर हुसैन पर मर्डर, आगजनी की एफआईआर, छत से मिले थे पेट्रोल बम

संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) विरोधी और समर्थक समूहों के बीच हिंसा में अबतक 38 लोगों की मौत हो चुकी है।

delhi news, delhi news today, delhi news live, live delhi news, delhi news today, delhi latest news, caa, caa protest, caa protest today, caa protest latest news, delhi caa protest, caa latest news, delhi caa protest, violence in delhi, violence in delhi today, violence in delhi today latest news, delhi violence today, maujpur delhi, maujpur delhi latest news, maujpur babarpur metro station, jaffrabad news, jaffrabad news latest newsवार्ड संख्या 59 नेहरू विहार के निगम पार्षद ताहिर हुसैन। फोटो: ANI

उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंसा को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) पार्षद ताहिर हुसैन के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर दी गई है। पार्षद के खिलाफ यह एफआईआर दयालपुर पुलिस स्टेशन में दर्ज की गई है। उनपर आईपीसी की धारा 302 के तहत एफआईआर दर्ज हुई है। हुसैन की करावल नगर स्थित पांच मंजिला एक बिल्डिंग की छत पर कई क्विंटल पत्थर, एसिड और पेट्रोल बम की बोतलें और गुलेल मिलने की खबरें सामने आई हैं। जिसके बाद पुलिस ने उनप यह कार्रवाई की  है।

हुसैन पर दंगों में  संलिप्तता के तो आरोप हैं इसके साथ ही उनपर इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) के कर्मी अंकित शर्मा की मौत पर भी शक के घेरे में हैं। शर्मा मंगलवार को लापता हो गए थे। बुधवार को उनका शव उत्तर-पूर्वी दिल्ली के दंगा प्रभावित चांद बाग इलाके में उनके घर के पास एक नाले से मिला था। शर्मा के परिजनों ने दावा किया कि उनकी हत्या के पीछे स्थानीय पार्षद और उसके साथियों का हाथ है।

दिल्ली की राजनीति में ताहिर हुसैन भले ही कोई बड़ा नाम ना हों लेकिन पूर्वोत्तर दिल्ली के शाहदरा, नेहरू नगर और चांद बांग इलाकों में उनकी गहरी पैठ बताई जाती है। वह वार्ड संख्या 59 नेहरू विहार के निगम पार्षद हैं। हालांकि उन्होंने इन दोनों में ही अपनी संलिप्तता से इनकार किया है।

वहीं ताहिर हुसैन पर दंगों में संलिप्त होने के आरोपों पर दिल्ली के मुख्यमंत्री और आप के राष्ट्रीय संयोजक ने अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि अगर दंगों में शामिल लोग आप से जुड़े पाये जाते हैं तो उन्हें दोगुनी सजा दी जाए। वहीं वरिष्ठ आप नेता संजय सिंह और गोपाल राय ने कहा कि हिंसा पर पार्टी का रुख स्पष्ट है कि इसे फैलाने से जुड़े किसी भी व्यक्ति को सख्त सजा दी जानी चाहिए।

संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के समर्थक और विरोधी समूहों के बीच तीन दिन पहले हुई झड़प ने सांप्रदायिक हिंसा का रूप ले लिया। इसमें 38 लोगों की मौत हो गई और 200 से अधिक लोग घायल हो गए।

दिल्ली हिंसा से जुड़ी सभी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘इनसे तो भारत माता की जय बुलवा लो…’ कांग्रेस महिला विधायक के तंज पर हरियाणा विधानसभा में हंगामा, अनिल विज भड़के
2 Delhi Violence: हिंसा प्रभावित इलाकों को छोड़ कर जा रहे मुस्लिम परिवार; दंगा पीड़ितों ने सुनाई दर्द भरी कहानी
3 Delhi Violence: जिनके घर बम मिले उनसे सवाल नहीं पूछा जा रहा है, हिंसा उकसाने के आरोप पर बोले कपिल मिश्रा
ये पढ़ा क्या?
X