ताज़ा खबर
 

दंगाइयों ने पहले छेड़ा, फिर मारने दौड़े तो दो बेटियों संग पहले तल्ले से कूदकर बचाई जान, अस्पताल में भर्ती महिला ने सुनाई आपबीती

करावल नगर में एनजीओ चलाने वाली इस महिला ने रोते हुए कहा, "मैं घर पर ही थी जब भीड़ अचानक अंदर आ गई। दंगाइयों ने मेरे और मेरी बेटियों के साथ छेड़छाड़ की और हमारे कपड़े फाड़े।"

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: February 28, 2020 1:26 PM
crime, crime newsदिल्ली में हुई हिंसा में कई परिवारों ने अपनों को खोया है। (express)

देश की राजधानी दिल्ली के उत्तर-पूर्व इलाकों में हुई हिंसा में अबतक 38 लोग मारे जा चुके हैं। राजधानी के जाफराबाद, यमुना विहार, बाबरपुर, खजूरी खास इलाकों में लोगों की गाड़ियों, दुकानों और घरों में आग लगाई गई, जिसके चलते सैकड़ों लोग घायल हो गए हैं। अस्पतालों में भर्ती सभी घायल अपनी आपबीती सुना रहे हैं। उत्तर-पूर्व दिल्ली के अल-हिंद अस्पताल में भर्ती 45 वर्षीय एक महिला ने भी अपने साथ घटी वारदात के बारे में बताया। 45 वर्षीय इस महिला ने दंगाइयों से अपनी जान बचाने के लिए पहली मंजिल से छलांग लगा दी।

पीड़ित महिला ने यह याद करते हुए कि कैसे उन्हें और उनकी दो बेटियों को अपने घर से भागने के लिए मजबूर किया गया बताया “हमने अपने आप को बचाने के लिए अपने शरीर में दुपट्टे को लपेटा और पहली मंजिल से छलांग लगा दी।” महिला ने बताया कि उनके घर में अचानक भीड़ आ गई और उनके साथ छेड़छाड़ की।

Delhi Violence: हर तीन में एक को लगी गोली, मौके से पुलिस को मिले .32mm, .9mm और .315 mm के 350 खोखे

करावल नगर में एनजीओ चलाने वाली इस महिला ने रोते हुए कहा, “मैं घर पर ही थी जब भीड़ अचानक अंदर आ गई। दंगाइयों ने मेरे और मेरी बेटियों के साथ छेड़छाड़ की और हमारे कपड़े फाड़े।”

चुनाव आयोग ने जिस अफसर पर लिया था एक्शन, उसे सौंपी दिल्ली दंगे की जांच, जामिया, जेएनयू हिंसा की जांच से भी जुड़े हैं

उन्होंने कहा कि जब हमने भागना चाहा तो भीड़ ने पीछा किया, जब महिला ने मदद के लिए पड़ोस के किराना दुकानदार अयूब अहमद से मदद की गुहार लगाई तो दंगाई भाग गए। महिला ने कहा, “जब हम अहमद के घर पहुंचे, तो उन्होंने हमें भोजन और अन्य आवश्यक चीजें दीं और बाद में हमें अल-हिंद अस्पताल में भर्ती कराया। मैं बदमाशों की पहचान कर सकती हूं क्योंकि वे हमारी गली से थे।”

अहमद ने बताया कि महिलाओं को इस घटना के कारण गहरा सदमा लगा है। यह महिला उन कई लोगों में से एक है जिन्हें पिछले कुछ दिनों में हिंसा प्रभावित उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हथियारबंद लोगों द्वारा हमला करने के बाद अल-हिंद अस्पताल लाया गया था।

दिल्ली हिंसा से जुड़ी सभी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 VIDEO: भरी सभा में मंच पर गाते-गाते राष्ट्रगान भूल गए कन्हैया, गलत लाइन से पूरा किया ‘जन गण मन’
2 ‘कोर्ट को भी सच बोलने की सजा मिलने लगी है क्या?’ हाईकोर्ट जज के तबादले पर सामना में शिवसेना के तीखे बोल
3 NDA सांसद ने लिखा- दिल्ली दंगे में 16 जानें फंसी थीं, मैं कॉल करता रहा, पुलिस ने नहीं सुनी
ये पढ़ा क्या?
X