दिल्ली दंगाः उमर ख़ालिद के वकील बोले- टीवी कार्यक्रम की स्क्रिप्ट जैसी है चार्जशीट, इसे बनाने वाला सांप्रदायिक

उमर खालिद के वकीलल ने कोर्ट में कहा कि उनके खिलाफ फाइल चार्जशीट पुलिस की कोरी कल्पना है और यह किसी टीवी स्क्रिप्ट की तरह लिखी गई है।

दिल्ली में हुए दंगे के दौरान की तस्वीर। एक्सप्रेस By प्रवीण खन्ना

दिल्ली की एक अदालत में दंगों को लेकर सुनवाई के दौरान जेएनयू के पूर्व छात्र उमर ख़ालिद के वकील ने कहा कि इस चार्जशीट में जिस तरह से सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश की गई है, यह दिखाता है कि रिपोर्ट बनाने वाले अधिकारियों के दिमाग में ‘सांप्रदायिकता’ भरी हुई थी। ख़ालिद के वकील त्रिदीप पाइस ने यह भी कहा कि चार्जशीट ‘फैमिली मैन’ या किसी टीवी प्रोग्राम की स्क्रिप्ट जैसी है।

यह सुनवाई ट्रायल कोर्ट में चल रही थी। कोर्ट अब सोमवार को फिर खालिद की जमानत याचिका पर सुनवाई करेगा। आज की सुनवाई के दौरान उमर ख़ालिद के वकील ने कहा कि उनके मुवक्किल पर बिना किसी तथ्य के इतने सारे आरोप लगाए गए हैं। उन्होंने कहा, ‘चार्जशीट को पढ़कर लगता है कि यह रात 9 बजे वाले टीवी शो की स्क्रिप्ट है। यह कोरी कल्पना पर आधारित है।’

पाइस ने गवाहों पर भी सवाल उठाए और कहा कि उनसे झूठे बयान दिलाए जा रहे हैं। यह खालिद के खिलाफ षड्यंत्र है। चार्जशीट का एक हिस्सा पढ़ते हुए वह बोले, ‘भारत तेरे टुकड़े होंगे, ये कहां से मिला। ऐसा लग रहा है कि टीवी प्रोग्राम की स्क्रिप्ट लिखी गई है। 2016 में खालिद पर जो केस दर्ज किया गया था उसकी चार्जशीट में कहीं भी भारत तेरे टुकड़े होंगे के नारे लगाने की बात नहीं थी।’

वकील ने कहा कि एंटी-सीएए प्रोटेस्ट को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश की गई है। दिल्ली पुलिस ने यह काम किया है। बता दें कि दिल्ली दंगे के मामले में उमर खालिद के खिलाफ यूएपीए, आर्म्स ऐंक्ट और प्रिवेंशन ऑफ डैमेज टु पब्लिक प्रॉपर्टी ऐक्ट 1984 के तहत चार्जशीट फाइल की गई है।

कई आरोपी बरी
दिल्ली दंगों को लेकर पुलिस द्वारा की गई जांच पर ही कोर्ट ने सवाल खड़े कर दिए हैं। कोर्ट ने पुलिस को फठकार लगाते हुए कहा कि इतिहास इस दंगे को पुलिस की विफलता के तौर पर याद रखेगा। पुलिस ने कोर्ट की आंख में पट्टी बांधने का काम किया है। कोर्ट ने इस मामले में पूर्व आप पार्षद ताहिर हुसैन के भाई को बरी कर दिया। उनके साथ तीन अन्य आरोपियों को भी कोर्ट ने बरी कर दिया।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट