ताज़ा खबर
 

दिल्ली दंगा चार्जशीट: इरफ़ान के क़त्ल में बीजेपी महामंत्री का नाम, रिहाई के लिए पार्टी से गुहार लगा रहे पिता

चार्जशीट में बताया गया है कि ब्रजमोहन ने हत्या की बात कबूल कर ली है। ब्रजमोहन के पिता हरीश चंद्र शर्मा भी पूर्व भाजपा नेता हैं और पार्टी के किसान मोर्चा के उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं।

delhi riot, delhi police, chargesheet, bjpब्रह्मपुरी मंडल के भाजपा महामंत्री का नाम हत्या के मामले में बतौर आरोपी दर्ज है। (एक्सप्रेस फोटो)

फरवरी में उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़के दंगे की चार्जशीट में इरफान की हत्या के आरोप में भाजपा के ब्रह्मपुरी मंडल के महामंत्री ब्रजमोहन शर्मा का भी नाम शामिल है। आरोपी भाजपा नेता बीते मार्च से ही पुलिस हिरासत में हैं। 23 जून को चार्जशीट दिल्ली की कड़कड़डूमा कोर्ट में चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट पुरुषोत्तम पाठक के सामने पेश की गई है। चार्जशीट में कहा गया है कि ब्रजमोहन शर्मा करीब एक दशक से राजनीति से जुड़ा हुआ है और स्थानीय लोगों के बीच ‘नेताजी’ के नाम से जाना जाता है।

ब्रजमोहन (41 वर्ष) को 28 मार्च को अपने पड़ोसी सनी सिंह (32 वर्ष) के साथ इरफान की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। चार्जशीट में बताया गया है कि ब्रजमोहन ने हत्या की बात कबूल कर ली है। ब्रजमोहन के पिता हरीश चंद्र शर्मा भी पूर्व भाजपा नेता हैं और पार्टी के किसान मोर्चा के उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं।

ब्रजमोहन शर्मा के पिता का कहना है कि “उसे फंसाया गया है। उन्होंने दावा किया कि दंगों से पहले दो स्थानीय पुलिसकर्मियों ने कंस्ट्रक्शन के काम की मंजूरी के लिए दो परिवारों से पैसे की मांग की थी। इस पर मेरे बेटे ने उन्हें ऐसा करने से रोक दिया था। एक माह बाद जब दंगे हुए तो उन्होंने मेरे बेटे के खिलाफ बयान दर्ज कर लिया। स्थानीय पुलिसकर्मियों ने हमारे राजनैतिक प्रतिद्वंदी के साथ मिलकर उसे फंसाया है। वह तो घटना के वक्त घर में मौजूद था।”

चार्जशीट के मुताबिक इरफान की मां कुरेशा ने ब्रजमोहन और सनी की पहचान की है। पुलिस का कहना है कि हमले के दो अन्य आरोपियों को पकड़ने का प्रयास किया जा रहा है। कुरेशा ने बताया कि “वह और उसका बेटा इरफान दूध और दवाईयां लेने के लिए घर से बाहर निकले थे। वह मेरे आगे चल रहा था तभी कुछ लोगों ने उसे घेरकर पीटना शुरू कर दिया। आरोपियों ने रॉड और तलवान से उस पर हमला किया।”

चार्जशीट के अनुसार, ब्रजमोहन ने अपने बयान में कहा है कि “बीते कुछ दिनों से उत्तर पूर्वी दिल्ली में दंगे हो रहे थे, जिसमें मुस्लिम हिंदुओं को मार रहे थे। उन्होंने हिंदुओं के घरों में आग भी लगायी….मैं नाराज था और मौके की इंतजार में था। 26 फरवरी को मैंने सनी और कुछ अन्य लोगों के साथ इरफान पर हमला किया। वह खुद को मुस्लिमों का दादा बताता था। जैसे ही हमने उसे देखा हमने उसे पकड़ लिया और उसके सिर पर लोहे की रॉड से वार किया। एक हथियार से भी उसके सिर पर हमला किया गया। इसके बाद वह बेहोश हो गया और जमीन पर गिर गया। जब हमे लगा कि वह मर गया है तो हम वहां से भाग गए। मैंने लोहे की रॉड को गोकुलपुरी के नाले में फेंक दिया था।”

वहीं अन्य आरोपी सनी के भाई का कहना है कि “जब यह घटना घटी उस वक्त मेरा भाई घर के अंदर बैठा हुआ था। हम इरफान की मदद के लिए बाहर गए और मेरे भाई ने उसे अस्पताल ले जाने के लिए ऑटोरिक्शा भी बुलवाया था।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अहमद पटेल ने पूछा एक सवाल और कहा- मैंने ईडी को दिए हैं 128 सवालों के जवाब
2 बिजनेसमैन के देश छोड़ने के दो साल बाद बैंकों ने लगाए 350 करोड़ के घोटाले का आरोप, छह बैंकों की पहल पर सीबीआई ने दर्ज की FIR
3 राजनाथ सिंह की सरकार में थाने में घुस किया था मंत्री का मर्डर, विकास दुबे पर हैं 60 FIR
ये पढ़ा क्या?
X