ताज़ा खबर
 

Delhi polls: आप उम्मीदवार जितेंद्र सिंह तोमर का कटा टिकट, पार्टी ने पत्नी को मैदान में उतारा

तोमर 2015 दिल्ली विधानसभा चुनाव में त्रि नगर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़े थे और जीत हासिल की थी। उन्हें केजरीवाल मंत्रिमंडल में भी जगह दी गई थी।

आम आदमी पार्टी के नेता जितेंद्र सिंह तोमर

Delhi polls: आम आदमी पार्टी (आप) ने पूर्व मंत्री जितेन्द्र सिंह तोमर को त्रि नगर विधानसभा क्षेत्र से अपना उम्मीदवार बनाया था लेकिन अब पार्टी ने तोमर का टिकट काट दिया है। उनके जगह आगामी दिल्ली चुनाव में उनकी पत्नी प्रीति तोमर को पार्टी ने चुनावी मैदान में उतारा है। पूर्व कानून मंत्री तोमर ने कहा, “मैंने पार्टी से कहा कि मेरी पत्नी चुनाव लड़ेगी। पार्टी ने मेरे इस बात पर राजी हो गई और पत्नी को टिकट दिया।” प्रीति तोमर ने सोमवार को ही नामंकन दाखिल कर दिया।

दरअसल दिल्ली हाईकोर्ट ने फैसला सुनाया था कि जितेंद्र तोमर ने 2015 के विधानसभा चुनावों में अपने नामांकन पत्र में शैक्षिक योग्यता के बारे में गलत जानकारी दी थी। इसके बाद कोर्ट ने 2015 विधानसभा चुनाव में तोमर का निर्वाचन निरस्त कर दिया। तोमर 2015 दिल्ली विधानसभा चुनाव में त्रि नगर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़े थे और जीत हासिल की थी। उन्हें केजरीवाल मंत्रिमंडल में भी जगह दी गई थी।

दिल्ली भाजपा के एक प्रतिनिधिमंडल ने मुख्य चुनाव आयुक्त से मुलाकात की और तोमर की उम्मीदवारी को रद्द करने की मांग की थी। विधानसभा चुनावों के लिए पार्टी के सह-प्रभारी और केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी सहित भाजपा प्रतिनिधिमंडल ने मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा से मुलाकात की। पुरी ने कहा कि ‘आप’ ने गंभीर आरोप का सामना कर रहे तोमर और पार्टी के अन्य नेताओं को मैदान में उतारकर लोगों के भरोसे का मजाक बनाया है।

तोमर पर नामांकन करते समय दिल्ली बार काउंसिल का फर्जी डिग्री प्रमाण पत्र जमा करने का आरोप था। इससे पहले पुलिस ने अपनी चार्जशीट में आरोप लगाया था कि तोमर ने अवध विश्वविद्यालय से बीएससी की डिग्री हासिल की, जिसके आधार पर वह भागलपुर के तिलका मांझी विश्वविद्यालय में एक लॉ कॉलेज में दाखिला ले लिया था। यहां उन्होंने कोई परीक्षा दिए बिना डिग्री प्राप्त कर ली थी।

तोमर फरवरी 2015 में केजरीवाल सरकार में कानून मंत्री बने थे, लेकिन जून 2015 में दिल्ली पुलिस ने उनको फर्जी डिग्री मामले में गिरफ्तार कर लिया था। इसके बाद उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा था। बता दें कि दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों पर आठ फरवरी को मतदान होगा और इसके नतीजे 11 फरवरी को घोषित किए जाएंगे।

Next Stories
1 मोदी सरकार के J&K प्लान पर मणिशंकर अय्यर का हमला, बोले- डरपोक है, 31 मंत्री जा रहे जम्मू, कश्मीर में सिर्फ पांच
2 IMF ने आर्थिक वृद्धि दर अनुमान में की कटौती, पूर्व FM बोले- मोदी सरकार के मंत्रियों के हमले को तैयार रहें गीता गोपीनाथ
3 दिल्ली: UPSC एग्जाम में हुआ फेल तो की आत्महत्या की कोशिश, मेट्रो के सामने युवक ने लगा दी छलांग
ये पढ़ा क्या?
X