ताज़ा खबर
 

पीएम नरेंद्र मोदी को जान से मारने की धमकी? दिल्‍ली पुलिस कमिश्‍नर ने कहा- ऐसा कोई ईमेल नहीं मिला

हाल ही में भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में पांच संदिग्धों को विभिन्न जांच एजेंसियों ने गिरफ्तार किया गया था। गिरफ्तारी के बाद ऐसी सूचना मिली थी कि नक्सली पीएम नरेंद्र मोदी की हत्या की साजिश रच रहे थे।

Author Updated: October 14, 2018 12:02 AM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रतीकात्मक तस्वीर। (फाइल फोटो)

दिल्ली पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जान से मारने की धमकी वाला ईमेल नहीं मिला है। एक अधिकारी ने शनिवार को इस बात की जानकारी दी। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने खबरों पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “वह खबरें जिसमें यह कहा जा रहा था कि आयुक्त को प्रधानमंत्री को जान से मारने वाली धमकी का ईमेल प्राप्त हुआ है, वह पूर्णतया निराधार और झूठी हैं।” कई मीडिया रिपोर्ट में कहा गया था कि धमकी भरा मेल दिल्ली के पुलिस कमिश्नर को भेजा गया है। कथित तौर पर मेल में बताया गया था कि पीएम नरेंद्र मोदी की साल 2019 के किसी महीने में हत्या की जा सकती है। जांच में पाया गया कि ये धमकी भरा ई-मेल देश के पूर्वोत्तर राज्य असम के किसी जिले से भेजा गया है।

वैसे बता दें कि प्रधानमंत्री बनने से पहले भी आतंकी कई बार पीएम नरेंद्र मोदी की हत्या की साजिश कथित तौर पर रच चुके हैं। हाल ही में भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में पांच संदिग्धों को विभिन्न जांच एजेंसियों ने गिरफ्तार किया गया था। गिरफ्तारी के बाद ऐसी सूचना मिली थी कि नक्सली पीएम नरेंद्र मोदी की हत्या की साजिश रच रहे थे। बताया गया था कि दिल्ली से इस मामले में गिरफ्तार किए गए रोना जैकब विल्सन के पास से इस संबंध में चिट्ठी मिली है।

वैसे बता दें कि भारत के प्रधानमंत्री एसपीजी के सुरक्षा घेरे में रहते हैं। एसपीजी स्तर के सुरक्षा घेरे में देश के बेहतरीन कमांडो तैनात होते हैं। ये कमांडो किसी भी खतरे से प्रधानमंत्री की सुरक्षा करते हैं। इसके अलावा एसपीजी के पास ऐसे सुरक्षा उपकरण भी होते हैं। जिनकी मदद से वह पलक झपकते ही पीएम तक किसी भी खतरे को पहुंचने से रोक सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Satta Matka: सट्टा मटका में इन ट्रिक्‍स के सहारे लकी नंबर चुनते हैं लोग!
2 एक बार फिर संयुक्‍त राष्‍ट्र मानवाधिकार काउंसिल का सदस्‍य बना भारत, मिले सबसे ज्‍यादा वोट
3 MeToo : एमजे अकबर पर एक और आरोप, अमित शाह बोले- देखना पड़ेगा ये सच है या गलत