ताज़ा खबर
 

कोरोना से बचाओ सरकार

दिल्ली के सरकारी विभागों के अधिकारियों को भी कोरोना संक्रमण का डर है। इस संक्रमण से बचने के लिए अधिकारियों ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से गुहार लगाई है ताकि अधिक भीड़ वाले विभागों को बड़ी राहत दिलाई जा सके।

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल। फोटो: ANI

दिल्ली के सरकारी विभागों के अधिकारियों को भी कोरोना संक्रमण का डर है। इस संक्रमण से बचने के लिए अधिकारियों ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से गुहार लगाई है ताकि अधिक भीड़ वाले विभागों को बड़ी राहत दिलाई जा सके। मुख्यमंत्री ने इस मामले में संबंधित विभागों से रिपोर्ट मांगी है और इस रिपोर्ट के बाद दिल्ली सरकार आखिरी फैसला लेगी। गुरुवार को उपराष्ट्रपति अनिल बैजल व मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल कोरोना संक्रमण को लेकर किए गए कार्यों की समीक्षा करेंगे।

इन विभागों में प्रतिदिन 200 से अधिक लोग सरकारी काम के लिए पहुंचते हैं। दिल्ली सरकार के अधिकारियों का कहना है कि कोरोना संक्रमण अभी श्रेणी दो में है और श्रेणी तीन में यह एक बड़ा संकट खड़ा कर सकता है। इसलिए तत्काल सरकारी कर्मचारियों के लिए भी कड़े दिशा निर्देश जारी किए जाएं ताकि बीमारी को फैलने से रोका जा सके। सरकारी यूनियन के सलाहकार ने बताया कि दिल्ली में ऐसे दर्जनभर विभाग हैं जिनके कुछ समय के लिए बंद किए जाने से जनकार्यों पर कोई असर नहीं आएगा।

इन विभागों में सबरजिस्ट्रार कार्यालय, परिवार विभाग कार्यालय, आयकर विभाग, खाद्य आपूर्ति विभाग समेत अन्य विभाग शामिल हैं। इन विभागों में करीब 2 लाख से अधिक कर्मचारी हैं। जो संक्रमण से प्रभावित हो सकते हैं इसलिए तत्काल कदम उठाए जाएं। संबंधित अधिकारियों का कहना है कि मुख्यमंत्री ने संबंधित विभागों से रिपोर्ट मांगी है। यह रिपोर्ट तैयार होने के बाद गुरुवार को इस संबंध में बड़ा फैसला लिया जा सकता है। यह रिपोर्ट संबंधित विभाग के मुख्य अधिकारी तैयार करेंगे।

‘सभी निजी अस्पतालों में नि:शुल्क हो कोरोना की जांच’
कोरोना संक्रमण की जांच नि:शुल्क होनी चाहिए। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) द्वारा प्राईवेट लैब में कोरोना संक्रमण जांच नि:शुल्क करने के सुझाव के बाद यह मांग की है। इस पहल को उन्होंने बेहतरीन पहल बताया है। उन्होंने कहा कि अगर निजी अस्पतालों में भी ये सुविधा होती है तो इससे सभी लाभान्वित होंगे। दुनिया भर में लाखों लोग कोरोना संक्रमण से संक्रमित हो गए हैं और इसके संक्रमण से बचने के लिए लोग सभी उपाय कर रहे हैं।

इस महामारी से बचने के लिए भारत के सरकारी अस्पतालों में पहले से ही जांच फ्री कर दिए गए हैं ताकि स्वास्थ्य को लेकर किसी भी तरह की शंका होने पर लोग जांच करवा सकें। केंद्र सरकार कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए लगातार कदम उठा रही है। कोरोना वायरस के कारण विदेशों में फंसे हजारों से ज्यादा भारतीयों को सुरक्षित भारत लाकर मोदी सरकार ने ‘सबका साथ सबका विश्वास’ की नीति को स्थापित और सिद्ध किया है। विषाणु से लड़ने की दिशा में भारत सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदमों की प्रशंसा विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) ने की भी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 कोरोना वायरस: दक्षिणी राज्यों में पूर्ण प्रतिबंध जैसे हालात
2 जवानों की गैरजरूरी छुट्टियां रद्द करे फोर्स : सरकार
3 राशन की दुकान से 6 महीने का अनाज एक साथ उठा सकेंगे, 75 करोड़ लोगों को मिलेगा फायदा