ताज़ा खबर
 

दिल्ली-NCR: बारिश से प्रदूषण सुधरा, फिर भी हवा ‘बहुत खराब’

जिन शहरों की हवा अभी भी खतरनाक बनी हुई है उनका समग्र वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआइ) 400 के पार बना हुआ है। गाजियाबाद का एक्यूआइ 415, ग्रेटर नोएडा 404, कानपुर 404, बुलंदशहर 402, बागपत 402 दर्ज किया गया है।

Author नई दिल्ली | Updated: December 13, 2020 6:17 AM
delhi pollutionप्रदूषण बढ़ने से लोग हो रहे हैं परेशान। फाइल फोटो।

बारिश होने से वायु प्रदूषण से फौरी राहत मिली है। दिल्ली सहित एनसीआर की हवा की गुणवत्ता में सुधार देखने को मिला। हालांकि यह अभी भी ‘बहुत खराब’ व ‘खराब’ दर्जे के बीच बनी हुई है। दिल्ली सहित 11 शहरों की हवा बहुत खराब और गाजियाबाद, ग्रेटर नोएडा, बुलंदशहर, बागपत व कानपुर की हवा अभी भी खतरनाक स्तर तक प्रदूषित है।

दिल्ली एनसीआर सहित देश के तमाम शहरों में पीते 24 घंटों में हुई बारिश के बाद प्रदूषण के स्तर में कुछ सुधार हुआ है। जहां दिल्ली, गुरुग्राम, फरीदाबाद, सोनीपत, पानीपत, वाराणसी, पटना, मेरठ लखनऊ कोलकाता सहित कुल 11 शहरों की हवा में प्रदूषण का स्तर बहुत खराब दर्जे का पाया गया है।

वहीं बारिश, कुछ पूर्वी व कुछ उत्तरी पछुवा हवाओं के कारण आगरा, अंबाला व अन्य कई शहरों की हवा साफ होकर मध्यम दर्जे की हो गई है।

जिन शहरों की हवा अभी भी खतरनाक बनी हुई है उनका समग्र वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआइ) 400 के पार बना हुआ है। गाजियाबाद का एक्यूआइ 415, ग्रेटर नोएडा 404, कानपुर 404, बुलंदशहर 402, बागपत 402 दर्ज किया गया है।

वहीं नोएडा का एक्यूआइ 393, दिल्ली- 356,फरीदाबाद का 348 दर्ज किया गया। जबकि यह किसी भी सूरत में 50 से अधिक नहीं होना चाहिए। सौ तक संतोषजनक, 100 से 200 मध्यम 200 से 300 खराब और 300 से 400 के बीच बहुत खराब माना जाता है। वहीं 400 से ऊपर खतरनाक माना जाता है।

Next Stories
1 मौसम का हाल: मैदान में ढंग से नहीं उतर पाई ठंड
2 24 घंटे में मिले 1935 नए मरीज, 47 की मौत, दिल्ली में कोरोना संक्रमण की दर तीन फीसद से नीचे आई
3 पीएम की अपील का असर नहीं, कल दिल्ली मार्च शुरू करेंगे अन्नदाता; बोले- कृषि कानून रद्द करो फिर होगी वार्ता
ये पढ़ा क्या?
X