ताज़ा खबर
 

दिल्ली गैंगरेपः ‘आतंकियों को बिरयानी खिला दिया जाते हैं कानूनी उपचार, पर विनय पागल हो गया’, बोले वकील; पीड़िता के पिता ने कहा- एपी सिंह हो गए हैं पागल

एपी सिंह ने कहा, "आतंकियों को बड़े प्यार से बिरयानी खिलाकर लीगल रेमेडी दी जा रही है। वहीं विनय का सिर फाड़ दिया गया, वो पागल हो गया है, अपनी मां को ही नहीं पहचान पा रहा है।

दिल्ली गैंगरेप केस के चारों दोषी। (फाइल)

दिल्ली गैंगरेप केस में पटियाला हाउस कोर्ट ने सोमवार को सभी दोषियों के लिए नया डेथ वारंट जारी कर दिया है। जिसके तहत चारों दोषियों को 3 मार्च को फांसी दी जानी है। जब इस बारे में दोषियों के वकील एपी सिंह से बात की गई तो उन्होंने आरोप लगाया कि डेथ वारंट जारी कर राष्ट्रपति भवन और सुप्रीम कोर्ट बेंच पर दबाव बनाने का प्रयास किया जा रहा है।

एबीपी न्यूज के साथ बातचीत में दोषियों के वकील एपी सिंह ने कहा कि “वह फांसी की सजा में देरी करने का प्रयास नहीं कर रहे हैं, बल्कि कानूनी प्रक्रिया के तहत ही काम कर रहे हैं। एपी सिंह ने आरोप लगाया कि डेथ वारंट जारी कर राष्ट्रपति भवन और सुप्रीम कोर्ट को दबाव में लेना चाहते हैं, चार लोगों की जान लेने के लिए इतना क्या जल्दी है?”

बता दें कि गैंगरेप के दोषियों का दो बार डेथ वारंट जारी हो चुका है, लेकिन कानूनी याचिकाओं के चलते दोनों बार ही दोषियों को फांसी की सजा नहीं दी गई। अब कोर्ट ने तीसरी बार डेथ वारंट जारी किया है, लेकिन अभी भी एक दोषी की क्यूरेटिव पिटीशन पेंडिंग है।

जब एपी सिंह से सवाल किया गया कि दोषियों को आखिर कितनी लीगल रेमेडीज (कानूनी उपचार) मिलेंगी? इसके जवाब में एपी सिंह ने कहा, “आतंकियों को बड़े प्यार से बिरयानी खिलाकर लीगल रेमेडी दी जा रही है। वहीं विनय का सिर फाड़ दिया गया, वो पागल हो गया है, अपनी मां को ही नहीं पहचान पा रहा है। अगर जल्दबाजी में फांसी दे दी जाएगी तो इसका बाद में जवाब देना पड़ेगा।”

वहीं न्यूज 18 के साथ बातचीत में पीड़िता के पिता ने कहा कि “सुनवाई के दौरान दोषियों के वकील एपी सिंह की दलीलों को निराधार बताया था। एपी सिंह दोषी को पागल बता रहे हैं, हमें लगता है कि एपी सिंह ही पागल हो गए हैं।”

बता दें कि पटियाला हाउस कोर्ट ने गैंगरेप के चारों दोषियों की 3 मार्च की सुबह 6 बजे फांसी के लिए डेथ वारंट जारी किया है। इससे पहले 22 जनवरी तय की गई थी, जिसे बाद में अदालत के आदेश के बाद एक फरवरी कर दिया गया था। हालांकि इस दौरान भी फांसी को टाल दिया गया था।

Next Stories
1 ग‍िर‍िराज स‍िंंह ने शाहीन बाग प्रदर्शन को बताया ‘नेहरू की देन’, कहा- बंटवारे के दिन से इन्होंने डाला दूसरा बीज, ये फल-फूल रहा है
2 LIC का Jeevan Lakshya प्लान, सुरक्षा के साथ ही परिवार को सालाना आय सुविधा का है विकल्प
3 UP: सीएम योगी के सूबे में तेजी से बढ़ रही बेरोजगारी, एक साल में 12.50 लाख बेरोजगार बढ़े, बेरोजगारों की संख्या 34 लाख
Coronavirus LIVE:
X