ताज़ा खबर
 

Delhi Election 2020: स्टार प्रचारक होने और भारी डिमांड के बावजूद सिंधिया, सिद्धू क्यों नहीं कर रहे चुनाव प्रचार? सोनिया-प्रियंका पर भी सस्पेंस!

Delhi Election 2020: चुनाव की खास बात है कि साल 1998 से 2013 तक लगातार 15 सालों तक दिल्ली की सत्ता पर काबिज रही कांग्रेस प्रचार में कहीं नजर नहीं आती।

sonia gandhi and priyanka gandhiकांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी।

Delhi Election 2020: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में नई सरकार के चयन के लिए आठ फरवरी को मतदान होना है और प्रदेश की सत्ता पर काबिज आम आदमी पार्टी (आप) ताबड़तोड़ चुनाव प्रचार में जुटी है। विपक्षी दल भाजपा ने भी गृह मंत्री अमित शाह के नेतृत्व में चुनावी अभियान शुरू कर दिया है। चुनाव की खास बात है कि साल 1998 से 2013 तक लगातार 15 सालों तक दिल्ली की सत्ता पर काबिज रही कांग्रेस प्रचार में कहीं नजर नहीं आती।

अंग्रेजी न्यूज वेबसाइट हिंदुस्तान टाइम्स में छपी एक खबर के मुताबिक चुनाव प्रचार के लिए पार्टी की धीमी शुरुआत के कारणों में से एक रणनीतिकारों और स्टार प्रचारकों के बीच समन्वय की कमी भी है। चुनाव में कांग्रेस नेता कैप्टन अमरिंदर सिंह, ज्योतिरादित्य सिंधिया, नवजोत सिंह सिद्धू और सचिन पायलट जैसे नेताओं की पार्टी उम्मीदवार लगातार मांग कर रहे हैं, मगर पार्टी रणनीतिकार अभी तक चुनाव प्रचार का कार्यक्रम नहीं बना सके हैं।

एचटी के मुताबिक साल 2015 की तरह पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल द्वारा चुनाव प्रचार के आखिरी सप्ताह में कुछ रैलियों को संबोधित करने की उम्मीद है। हालांकि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी जनसभाओं को लेकर स्थिति अभी साफ नहीं है। इसके अलावा पार्टी ने जिन 66 पर्यवेक्षकों और 19 सांसदों की एक लिस्ट तैयार की थी, जो प्रदेश में कांग्रेस उम्मीदवारों की मदद करते, मगर इसमें भी जमीनी स्तर पर कोई काम होता नजर नहीं आता।

कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता कहते हैं, ‘महाराष्ट्र में अल्पसंख्यकों ने हमें शिवसेना के साथ गठबंधन करने पर जोर दिया, क्योंकि वो चाहते थे कि भाजपा सत्ता से दूर रहे। उस तर्क से ऐसा लगता है कि वो उस पार्टी का समर्थन करेंगे जो दिल्ली में भाजपा को हराने के लिए ज्यादा मजबूत है।’

कांग्रेस नेता ने आगे कहा, ‘भाजपा ने ध्रुवीकरण की कोशिश की, इसलिए अल्पसंख्यकों के लिए हमें वोट करने के लिए राजी करना बहुत मुश्किल है। चुनाव में वो हमें एक कमजोर वर्ग के रूप में देखते हैं। वो अपना वोट क्यों बर्बाद करेंगे।’

Next Stories
1 महिला टीवी पत्रकार ने लिखा- हमारी टीम ने शाहीनबाग में हर सवाल पूछे पर नहीं हुई बदसलूकी, ट्रोल्स ने ले लिया निशाने पर
2 ‘जब तक आप जेल नहीं जाते, नेता नहीं हो सकते, राजनीति में सॉफ्ट लोगों की जगह नहीं’, यूजर्स उड़ा रहे बंगाल BJP चीफ की खिल्ली
3 Jamia Firing: मोदी सरकार ऐसी घटनाओं को बर्दाश्त नहीं करेगी, पुलिस को दिए कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश, जामिया फायरिंग पर बोले शाह
ये पढ़ा क्या?
X