ताज़ा खबर
 

दिल्ली के लोगों ने अपने जनादेश से राष्ट्रवाद का ‘असली’ अर्थ समझा दिया, जीत के बाद बोले मनीष सिसोदिया

Delhi Vidhan Sabha Election/Chunav Results 2020: तीसरी बार अपनी सीट बरकरार रखने वाले सिसोदिया ने आरोप लगाया कि भाजपा ने "नफरत की राजनीति" की, लेकिन लोगों ने बंटने से इनकार कर दिया।"

Author Edited By Sanjay Dubey नई दिल्ली | Updated: February 11, 2020 10:12 PM
Delhi election 2020, delhi electionDelhi Elections Results: दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया। (ANI)

Delhi Election/Chunav Results 2020: आप नेता मनीष सिसोदिया ने दिल्ली विधानसभा चुनाव में अपनी जीत के बाद बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि दिल्ली के लोगों ने अपने जनादेश से राष्ट्रवाद का “असली” अर्थ समझा दिया है। कहा कि जो लोग नफरत की राजनीति करते हैं, जनता ने उन्हें नकार दिया। कहा कि लोगों बांटने वाली राजनीति का दौर खत्म हो गया। लोग अब विकास चाहते हैं। आम आदमी पार्टी ने लोगों की आकांक्षाओं को पूरा किया।

भाजपा का चुनाव प्रचार “राष्ट्रवाद” और अन्य मुद्दों के इर्द-गिर्द केंद्रित था। आप के प्रमुख चेहरों में से एक मनीष सिसोदिया ने पटपड़गंज सीट से भाजपा के अपने प्रतिद्वंद्वी को परास्त करने के बाद कहा, “सरकार में रहते हुए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मुहैया कराना असली देशभक्ति है।” तीसरी बार अपनी सीट बरकरार रखने वाले सिसोदिया ने आरोप लगाया कि भाजपा ने “नफरत की राजनीति” की, लेकिन लोगों ने बंटने से इनकार कर दिया।”

दिल्ली विधानसभा चुनाव परिणाम पर पूरा कवरेज, दिल्ली विधानसभा चुनाव नतीजों के लाइव अपडेट, विश्लेषण, सीटवार र‍िजल्‍ट…सब कुछ Jansatta.com पर।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, “मैं पटपड़गंज सीट दोबारा जीतकर खुश हूं। भाजपा ने नफरत की राजनीति की, लेकिन मैं पटपड़गंज के लोगों को धन्यवाद देता हूं। आज दिल्ली के लोगों ने ऐसी सरकार को चुना जो उनके लिए काम करती है और उन्होंने अपने जनादेश के जरिए राष्ट्रवाद का सही अर्थ समझाया।” सिसोदिया ने बाद में ट्वीट कर समझाया कि उनके लिए राष्ट्रवाद का क्या मतलब है।

उन्होंने कहा, “पांच वर्ष के कार्य का सम्मान, शिक्षा का सम्मान करने के लिए दिल्ली को दिल से आभार। सरकार में रहते हुए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मुहैया कराना असली राष्ट्रवाद है।” सिसोदिया निवर्तमान आप सरकार में उपमुख्यमंत्री थे और उन्होंने सरकार के शिक्षा सुधार एजेंडे का नेतृत्व किया। सिसोदिया ने भाजपा के रवींद्र सिंह नेगी को 3,500 से अधिक मतों के अंतर से हराया। शुरुआती रुझान में कभी सिसोदिया आगे तो कभी नेगी आगे बढ़ते हुए दिख रहे थे। सिसोदिया को 2013 में 11,000 मतों और 2015 में 28,000 मतों के अंतर से जीत मिली थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 AAP का कुछ भी नहीं बिगाड़ पाए बागी, कपिल मिश्रा, अलका लांबा समेत 8 में 7 बागी उम्मीदवार हार गए चुनाव
2 Okhla Election Result 2020: ओखला सीट पर अमानतुल्ला खान की बड़ी जीत, 70 फीसदी से ज्यादा वोटों से जीते, शाहीन बाग का असर?
3 दिल्ली में फिर शाह-हीन बाग, चुनाव नतीजों पर ऐसे BJP और अमित शाह पर पड़ रहे ताने
यह पढ़ा क्या?
X