ताज़ा खबर
 

Delhi Election 2020: शाहीनबाग में चल रहे विरोध-प्रदर्शन से बीजेपी को चुनावी लाभ के आसार, पार्टी के आंतरिक सर्वे में 35 सीट मिलने के उम्मीद!

दिल्ली भाजपा प्रमुख मनोज तिवारी ने कहा कि मनीष सिसोदिया और उनकी पार्टी का शाहीन बाग के साथ खड़े रहने के बयान से उन्हें मदद मिलेगी।

दिल्ली के शाहीन बाग में सीएए के विरोध में धरने पर बैठी महिलाएं। (AP Photo)

नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में दिल्ली के शाहीन बाग में करीब एक महीने से विरोध-प्रदर्शन चल रहा है। वहीं इसी दौरान दिल्ली में विधान सभा चुनाव भी है। आसार लगाए जा रहे हैं कि इस विरोध-प्रदर्शन से भाजपा को चुनाव में फायदा हो सकता है। पार्टी के आंतरिक सर्वे में भाजपा को इस चुनाव में 35 सीटें मिलने की उम्मीद की जा रही है। यदि ऐसा होता है तो बीजेपी के लिए यह एक बड़ी बात होगी क्योंकि पिछले 2015 के चुनाव में पार्टी मात्र तीन सीटों पर सिमट कर रह गई थी।

हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के अनुसार, आंतरिक मामलों को नजदीक से देख रहे नेताओं ने बताया कि शाहीन बाग में 40 दिन से अधिक समय से धरना जारी है। इस वजह से शहर का एक प्रमुख रोड पूरी तरह ब्लॉक हो गया है। इसका असर दूसरी सड़कों पर जाम के रुप में दिख रहा है। ऐसे में आम लोग प्रदर्शनकारियों के विरोध में आक्रोशित हो रहे हैं। सीएए के विरोध में शाहीन बाग और देश के अन्य हिस्से में धरने को लेकर ‘नकारात्मक धारणा’ भी फैल रही है। नेताओं ने यह भी दावा किया कि जैसे-जैसे चुनाव के समय नजदीक आएंगे, बीजेपी की रैलियों की संख्या और बढ़ सकती है।

दिल्ली भाजपा प्रमुख मनोज तिवारी ने कहा कि मनीष सिसोदिया और उनकी पार्टी का शाहीन बाग के साथ खड़े रहने के बयान से उन्हें मदद मिलेगी। उन्होंने कहा, “यह सच है कि हम चुनाव में काफी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। लोग शाहीन बाग की मानसिकता पर प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि भाजपा ने अपने सभी सांसदों को एक नोट भेजा है और कहा है कि संसद सत्र के दौरान दिन का आधा समय सदन में बीताएं और उसके बाद दिल्ली में रहने वाले अपने समुदाय और क्षेत्र के लोगों के बीच। यह नोट खासकर के उत्तर प्रदेश, बंगाल, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और अन्य राज्यों के सांसदों को भेजा गया है। कर्नाटक के प्रभारी के मुरलीधर राव, आंध्र प्रदेश के प्रभारी सुनील देवधर, त्रिपुरा के विधायक सुदीप रॉय बर्मन सभी दिल्ली में कैंप कर रहे हैं।

भाजपा नेता भी शाहीन बाग प्रदर्शन को भुनाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा ने दिल्ली चुनाव को लेकर एक जनसभा में कहा कि कहा कि कश्मीर में जो कश्मीरी पंडितों के साथ हुआ वह दिल्ली में भी हो सकता है। उन्होंने चेतावनी दी कि शाहीन बाग में लाखों सीएए विरोधी प्रदर्शनकारी घरों में घुस सकते हैं और महिलाओं से बलात्कार कर सकते हैं। निर्णय आप लोगों को करना है। उन्होंने कहा कि इस बात की जांच होनी चाहिए कि सीएए के खिलाफ प्रदर्शन के लिए लोगों को कौन भड़का रहा है? सरकार बार-बार यह कह रही है कि संशोधित कानून की वजह से किसी की नागरिकता नहीं जाएगी।

अमित शाह की मौजूदगी में वर्मा ने एक चुनावी रैली में कहा था कि 11 फरवरी की रात को ही शाहीन बाग प्रदर्शन स्थल को खाली करा लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि अगर भाजपा चुनावों में जीतती है तो उनके संसदीय क्षेत्र में सरकारी जमीन पर अवैध रूप से बने 40 मस्जिद, कब्रिस्तान और ‘मजारों’ को साफ कर दिया जाएगा। हालांकि वर्मा के इस बयान पर चुनाव आयोग कार्रवाई भी कर सकती है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मनरेगा मजदूरों को देने के लिए पैसों की किल्लत, SSB जवानों को भी सैलरी नहीं
2 दिल्ली गैंगरेप के दोषियों को फांसी का रास्ता साफ, अर्जी खारिज करते SC ने कहा- जेल में शोषण के आधार पर नहीं रुकेगी फांसी
3 केंद्रीय मंत्री को ओवैसी की ललकार- ‘बताएं कहां मुझे मारेंगे गोली, मैं आने को तैयार’